टाइगरों की लड़ाई देखने का शौक - Dainik Navajyoti
Dainik Navajyoti Logo
Thursday 20th of September 2018
Home   >  Special news   >   News
खास खबरें

टाइगरों की लड़ाई देखने का शौक

Monday, September 10, 2018 08:40 AM

फाइल फोटो

जयपुर में टाइगरों की वह लड़ाई बहुत से लोगों को याद होगी जिसमें जयपुर के शिकार महकमे के इंचार्ज कर्नल केसरी सिंह के पालतू टाइगर हैप्पी ने मादा टाइगर और अपनी बहन ग्रम्पी की जान ले ली थी। यह लड़ाई गुजरात की नवा नगर रियासत के महाराजा जाम साहब के मनोरंजन के लिए कराई गई थी, जो महाराजा मानसिंह के मेहमान बनकर कुछ दिन यहां आए थे। जानवरों की लड़ाइयां देखने का जयपुर के महाराजा को भी शौक था।

साल में एक बार चौगान स्टेडियम में हाथियों की लड़ाइयों का आयोजन होता था और दूसरे जानवरों की लड़ाइयों के लिए भी कर्नल साहब ने एक अहाता भी बनवा रखा था। इसमें कई अवसरों पर बाघों और बघेरों को छोड़ा गया लेकिन आदमियों के सामने लड़ने को वे तैयार नहीं हुए। आखिर आदमी दोनों ही के तो दुश्मन हैं और उनके मन बहलाव के लिए वे कैसे लड़ सकते हैं।

वे अपना हिसाब-किताब तो रात को ही तय करते जब कोई उन्हें देखने वाला नहीं होता। नवा नगर के जाम साहब ने जब टाइगरों की लड़ाई देखने की फरमाइश की तो महाराजा मानसिंह ने आगाह किया कि यह पूरी तरह से फ्लॉप शो होगी। उनका यह कहना सही था क्योंकि दो टाइगर दर्शकों की खुशी और मनोरंजन के लिए कभी अपना खून नहीं बहाते। रामनिवास बाग की जन्तुशाला और चिड़ियाघर तब कर्नल केसरी सिंह की ही देखरेख में थे।

और वहां जाकर जानवरों की आदतों का अध्ययन करना उनका शौक और व्यसन था। वे जानते थे कि हैप्पी को अपनी बहन ग्रम्पी से करीब करीब नफरत ही हो आई थी और अगर इन दोनों को रामनिवास बाग की जन्तुशाला के एक बाड़े में छोड़ा जाए तो ये ऐसे भिड़ेंगे कि क्या कहिए। जाम साहब के कहने पर उन्होंने इन दोनों को ही लड़ाने का फैसला किया। यह वो समय था जब हिन्दुस्तान आजाद नहीं हुआ था और रियासतों के राजा-महाराजाओं का एक शौक बाघ-बघेरों की लड़ाई देखने का भी था।

Other Latest News of Special-news -

मानवीय भेद मिटाने के लिए हुआ था बाबा रामदेव का अवतरण

लोक देवता बाबा रामदेव को कृष्णावतार माना जाता है। उनका जन्म भी दुष्टों का संहार की दीन दुखियों की मदद कर मानवीय

19 Sep 11:25 AM

20 सालों से खमोश है ‘ओपन एयर थिएटर’

शहर के यूथ का फेवरेट डेस्टिनेशन माने जाने वाले नाहरगढ़ फोर्ट में पर्यटकों की संख्या बढ़ने लगी है। वहीं दूसरी ओर नाहरगढ़

18 Sep 14:40 PM

इस नर्सरी में है 250 से अधिक मोरों का बसेरा

रियासत काल से ही खातीपुरा स्थित वन विभाग की ग्रास फार्म नर्सरी को संरक्षण मिलने, नर्सरी में विभिन्न प्रजातियों

14 Sep 12:50 PM

तेजस, त्रिपुर और तारा से लॉयन सफारी में होगी मुलाकात

दिल्ली रोड स्थित नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क में पर्यटकों को लॉयन सफारी के रुप में जल्द ही नई सौगात मिलने वाली है।

13 Sep 10:25 AM

सीजन के पहले फेरे पर जयपुर पहुंची पैलेस आॅन व्हील्स

लग्जरी ट्यूरिस्ट ट्रेन में शुमार पैलेस आॅन व्हील्स गुरुवार को सीजन के पहले फेरे पर जयपुर के गांधीनगर रेलवे स्टेशन पहुंची।

07 Sep 13:05 PM