राजस्थान में स्विस तकनीक से निर्मित डेयरी उत्पाद की होगी बिक्री - Dainik Navajyoti
Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 15th of January 2019
Home   >  Special news   >   News
खास खबरें

राजस्थान में स्विस तकनीक से निर्मित डेयरी उत्पाद की होगी बिक्री

Thursday, October 25, 2018 09:15 AM

जयपुर। राजस्थान के जयपुर में स्विस तकनीक से बने योगहर्ट, मक्खन,आइसक्रीम और अन्य डेयरी उत्पाद मिलेंगे। आर यू जे समूह के निदेशक अभिषेक जोशी ने बताया कि स्वीट्जरलैंड की तकनीक से निर्मित डेयरी संयंत्र में योगहर्ट, आइसक्रीम एवं अन्य डेयरी उत्पाद शीघ्र ही बाजार में उपलब्ध होंगे। उन्होंने बताया कि स्वच्छता एवं गुणवत्ता को प्राथमिकता देकर संयंत्र को इस तरह बनाया गया है जिसमें दूध का प्रसंस्करण मशीनों से किया जा रहा है तथा मनुष्य का दखल नहीं के बराबर है।

समूह के संस्थापक डा राजेन्द्र कुमार जोशी ने बताया कि किसानों को मवेशियों को दिए जाने वाले आहार के बारे में विशेष सेवाएं उपलब्ध करायी गयी हैं। उन्होंने बताया कि 40 करोड़ रुपए के निवेश कर उच्च गुणवत्ता की मशीनें लगायी गई हैं। बाजार में भेजे जाने से पहले प्रत्येक उत्पाद का परीक्षण 25 से अधिक गुणवत्ता मानकों पर किया जाता है। 
 

Other Latest News of Special-news -

जब चला ‘आजाद’ तो 1982 से 1989 तक की यादें हुई ताजा

शाही ट्रेन पैलेस आॅन व्हील्स के यात्रियों की मांग पर बुधवार को सायं ट्रेन में ‘आजाद’ नाम का भांप इंजन लोकोमोटिव डब्ल्यू पी-7200 लगा कर उसे सफदरगंज रेलवे स्टेशन से पटेल नगर तक चलाया गया।

22 Nov 11:25 AM

लॉयन सफारी: एक माह में हुई 5 लाख 76 हजार की आय

दिल्ली रोड स्थित नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क पर्यटकों के लिए आकर्षण का केन्द्र है। दूसरी ओर बायोलॉजिकल पार्क के अंदर ही बनाई गई लॉयन सफारी भी धीरे-धीरे पर्यटकों को अपनी ओर खींच रही है।

12 Nov 12:40 PM

नरक चतुर्दशी पर होती है यमराज की पूजा, जानें विधि

नरक चतुर्दशी कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को कहा जाता है। नरक चतुर्दशी को छोटी दीपावली भी कहते हैं।

06 Nov 11:55 AM

परवान पर है दिवाली की खरीददारी

इस त्यौहारी सीजन में जयपुर के लोगों ने अपने घर को चमकाने के लिए शॉपिंग शुरू कर दी हैं। इसके साथ ही पूजा के सामान के

05 Nov 15:00 PM

अमृत का स्वर्ण कलश लेकर प्रकट हुए थे भगवान धन्वंतरि

धन्वंतरि आरोग्य, सेहत, आयु और तेज के आराध्य देवता हैं समुद्र मंथन के दौरान भगवान धन्वंतरि हाथ में अमृत का स्वर्ण कलश लेकर प्रकट हुए। इस दौरान कई प्रकार की औषधियां उत्पन्न हुईं और उसके बाद अमृत निकला।

05 Nov 15:40 PM