तापमान बढ़ने के साथ तेजी से पिघलेगी बर्फ, भारत सहित 8 देश होंगे प्रभावित - Dainik Navajyoti
Dainik Navajyoti Logo
Sunday 17th of February 2019
Home   >  Special news   >   News
खास खबरें

तापमान बढ़ने के साथ तेजी से पिघलेगी बर्फ, भारत सहित 8 देश होंगे प्रभावित

Tuesday, February 05, 2019 13:05 PM

फाइल फोटो

काठमांडू। हिमालय और हिंदूकुश में इस सदी के अंत तक तापमान बढ़ने के साथ-साथ तेजी से बर्फ पिघलने लगेगा जिससे चीन और भारत समेत आठ देशों की नदियों का जल प्रवहा को प्रभावित करेगा जिससे दोनों देशों की कृषि के साथ साथ बड़ी आबादी पर इसका प्रतिकूल असर पड़ेगा। काठमांडू पोस्ट की मंगलवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक वैज्ञानिकों ने इस आशय की कड़ी चेतावनी जारी करते हुए कहा कि विशाल ग्लेशियर हिंदू कुश हिमालय क्षेत्र (एचकेएच) बनाते हैं जो विश्व की सबसे ऊंची चोटियों माउंट एवरेस्ट और के2 के इलाके में स्थित है। इसे अंटार्कटिका और आर्कटिक क्षेत्र के बाद इसे 'तीसरे ध्रुवÓ के तौर पर देखा जाता है।

रिपोर्ट जारी करने वाली टीम के सदस्य वैज्ञानिक फिलीपस वेस्टर ने कहा कि यह जलवायु संकट है, जिसके बारे में आपने नहीं सुना होगा। इन्टरनेशनल सेन्टर फर इन्टिग्रेटेड माउन्टेन डेभलपमेन्ट (आईसीएमओडी) के वैज्ञानिक वेस्टर ने कहा, ''ग्लोबल वार्मिंग से प्रभावित ग्लेशियर से ढके पहाड़ की चोटियों को एक सदी से भी कम समय में चट्टानों में बदलने की राह पर है जिससे एचकेएच के आठ देशों की आबादी प्रभावित होगी। दो सौ दस वैज्ञानिकों की लिखित इस रिपोर्ट में कहा गया है कि इस क्षेत्र का एक तिहाई से अधिक बर्फ 2100 तक पिघल जाएगी। चाहे भले ही सरकारें 2015 के पेरिस जलवायु समझौते के तहत ग्लोबल वार्मिंग को सीमित करने के लिए कितनी ही सख्त कार्रवाई क्यों न कर लें।

वैज्ञानिकों ने चेतावनी जारी करते हुए कहा कि यदि इस सदी में ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन पर लगाम लगाने में विफल रही तो दो तिहाई बर्फ पिघल सकती है। काठमांडू में रिपोर्ट लॉन्च करने के लिए आयोजित समारोह से इतर श्री वेस्टर ने कहा कि मेरे लिए यह सबसे बड़ी चिंता का विषय है। वर्ष 1970 के दशक से इस क्षेत्र के अधिकांश हिस्सों में ग्लेशियर पिघलने शुरू हो गये थे।  आईसीआईएमओडी के उप महानिदेशक एकलव्य शर्मा ने कहा कि हिंदू कुश हिमालय क्षेत्र में बर्फ पिघलने से 1.5 मीटर तक समुद्र का स्तर बढ़ जायेगा। यह क्षेत्र पूरे अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, चीन, भारत, म्यांमार, नेपाल और पाकिस्तान में 3,500 किलोमीटर तक फैला हुआ है।

रिपोर्ट के अनुसार बर्फ पिघलने से यांग्त्जी, मेकॉन्ग, सिंधु और गंगा सहित नदियों के प्रवाहों को बाधित करेगा, जहां किसान शुष्क मौसम में ग्लेशियर के पिघले पानी पर भरोसा करते हैं। उन्होंने बताया कि पर्वतीय इलाकों में लगभग 25 करोड़ और घाटियों में 1.65 अरब लोग रहते हैं। नदियों में पानी बढऩे और उसके प्रवाह में परिवर्तन से भी जल विद्युत उत्पादन को नुकसान पहुंचा सकता है और पहाड़ों के खिसकने और भूस्खलन की घटनाएं बढ़ सकती हैं।
 

Other Latest News of Special-news -

वैलेंटाइन डे पर मिले दिल, खिले चेहरे

गुरूवार को जयपुर के अधिकतर पर्यटन और सार्वजनिक स्थलों पर प्रेमी जोड़े के साथ कई विवाहित जोड़ो ने वैलेंटाइन डे को बड़ी ही धूमधाम से सेलिब्रेट किया।

15 Feb 11:40 AM

मरु प्रदेश में बढ़े देशी-विदेशी सैलानी, पर्यटन में आया बूम

पर्यटकों को लुभाने में राजस्थान अग्रणी राज्य बनता जा रहा है। खासतौर से विदेशी सैलानियों के लिए रणबांकुरों, त्याग, तपस्या तथा बलिदान की अनूठी गाथाओं को अपने अंचल में समेटे शौर्य और साहस की इस धरती पर घूमने आना एक सुखद अनुभव होता है।

12 Feb 11:40 AM

रूद्र और रिद्धि नाम से पहचाने जाएंगे रंभा के शावक

नाहरगढ़ जूलोजिकल पार्क में दिसम्बर माह में जन्में मादा बाघिन रंभा के दोनों शावक करीब 2 माह के हो गए हैं। पार्क प्रशासन की

11 Feb 13:25 PM

आमेर महल की खूबसूरती पर फिदा हुए प्रिंस एलबर्ट

आमेर महल की खूबसूरत बनावट और स्थापत्य कला को देख मन प्रसन्न हो गया। वाकई ये एक ऐतिहासिक फोर्ट है, जिसने यूनेस्को की वर्ल्ड हेरिटेज मॉन्यूमेंट की लिस्ट में अपना नाम दर्ज किया है।

09 Feb 10:45 AM

रोजाना 17 करोड़ की शराब और बीयर पीएंगे राजस्थानी

प्रदेश के बाशिन्दें अगले वित्तीय वर्ष में रोजाना करीब 17 करोड़ रुपए की शराब और बीयर पीएंगे। राजधानी जयपुर का यह आंकड़ा 74 लाख 80 हजार रुपए को छु जाएगा।

05 Feb 12:30 PM