झूठ पर झूठ बोल रहे हैं मोदी, पद की गरिमा का तो ध्यान रखें: अशोक गहलोत - Dainik Navajyoti
Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 12th of December 2018
Home   >  Rajasthan   >   News
राजस्थान

झूठ पर झूठ बोल रहे हैं मोदी, पद की गरिमा का तो ध्यान रखें: अशोक गहलोत

Thursday, December 06, 2018 10:30 AM

पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने पद की गरिमा के विरुद्ध जाकर झूठ बोलते जा रहे हैं

जोधपुर। पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने पद की गरिमा के विरुद्ध जाकर झूठ बोलते जा रहे हैं। वे कहते हैं कि राजस्थान में कांग्रेस ने कभी बहुमत से सरकार बनाई ही नहीं, जबकि हमने 150 सीटें भी लाकर दिखाई है। वे कहते फिर रहे हैं कि यूरिया खाद कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में किसानों को नहीं मिली। उस समय ब्लैक किया जाता था, जबकि हकीकत ये है कि वर्तमान में पुलिस कस्टडी में यूरिया देने की नौबत आ चुकी है। वे भोंपू प्रचार खत्म होने से ठीक पहले यहां पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

गहलोत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और यहां की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे झूठ के सरताज है। मोदी यहां आते हैं और झूठ बोलकर चले जाते हैं। इससे ज्यादा झूठ क्या हो सकता है कि राजे कहती फिर रही है कि वे 55 डिग्री तापमान में भी रेगिस्तान में लोगों के बीच जाती रहीं, जबकि हकीकत ये है कि इतिहास में कभी यहां का तापमान 55 डिग्री तक नहीं पहुंचा। गहलोत ने कहा कि रिफाइनरी, मेट्रो, बांध हो या रेल परियोजनाएं उनके समय में बनाई सभी योजनाओं को रोक दिया गया। गहलोत ने कहा कि चुनावों के समय फिर भावनात्मक रूप से राम का मुद्दा उछाल दिया गया।

गहलोत ने कहा कि यहां मेरे विरुद्ध खड़े प्रत्याशी आरोप लगा रहे हैं कि वे पांच साल तक विधानसभा में नहीं बोले तो हम पूछते हैं कि हमारे शासनकाल में राजे पांच साल में कितनी बार विधानसभा आई। हकीकत तो ये है कि वे लंदन में ही रही। गहलोत ने कहा कि विधानसभा में नहीं गया तो भी जनता के बीच ही रहा, देश की सेवा में लगा रहा। गहलोत ने चुटकी ली कि खेतासर के सजेशन पर विचार करेंगे कि उन्हें दिल्ली रहना है या जयपुर। 

मोदी और शाह भी अब राजस्थान में नहीं कर सकते डैमेज कन्ट्रोल
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने जनता की अपेक्षाओं पर पानी फेर दिया। आज जनता में इतना अधिक आक्रोश है कि अब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह भी किसी तरह से डैमेज कन्ट्रोल नहीं कर सकते हंै। 163 सीटें मिलने के बाद भी जनता की अपेक्षाओं पर पानी फेर दिया। लोग कह रहे हैं कि हमारा कसूर क्या था, आपने ऐसा व्यवहार क्यों किया? इस चुनाव में भाजपा का हारना और कांग्रेस की सरकार बनना तय है। अमित शाह ने गुजरात में मिशन 150 की बात की थी, लेकिन 90 के इर्द-गिर्द आ गए। अब प्रदेश में भाजपा का कोई नेता मिशन 180 का नाम क्यों नहीं लेता। इसका कारण साफ है कि जनता में भारी आक्रोश है और वे यह चुनाव हारने जा रहे हैं। 

नेहरू परिवार का 30 साल में कौनसा पीएम रहा बताएं मोदी
गहलोत ने मोदी के बार-बार लगाए जा रहे आरोपों को लेकर जवाब दिया कि वे बताए कि नेहरू के वंशज गत 30 सालों में कितनी बार पीएम बने या मंत्री पद पर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मोदी दस जन्म ले ले तो भी पंडित जवाहरलाल नेहरू सा महापुरुष नहीं बन सकते। उन्होंने कहा कि सरदार वल्लभ भाई पटेल कांग्रेसी थे और उन्होंने आरएसएस पर प्रतिबंध लगाया और माफी मांगने का तो लिखित रिकार्ड उपलब्ध है, ये लोग बताएं कि आजादी की लड़ाई में वे कहां थे। वे तो अंग्रेजों की मुखबिरी का काम करते थे।

 

Other Latest News of Rajasthan -

पहचान पत्र नहीं हो तो इन 17 दस्तावेजों से कर सकते हैं मतदान

अगर किसी मतदाता के पास फोटो पहचान पत्र नहीं है, तो भी वह सत्रह दस्तावेजों में से किसी एक को दिखाकर सात दिसम्बर को मतदान कर सकता है।

06 Dec 11:20 AM

चार करोड़ 78 लाख मतदाता कल करेंगे 2274 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला

प्रदेश के चार करोड़ 77 लाख 89 हजार 815 मतदाता शुक्रवार को विधानसभा चुनाव लड़ रहे दो हजार 274 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला करेंगे।

06 Dec 11:10 AM

हर बहन, हर मां भाजपा को वोट देकर कांग्रेस से लेगी बदला : राजे

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा कि महिला उत्पीड़न की बात करने वाली कांग्रेस बताए कि दुष्कर्म की घटनाओं को रोकने के लिए उसने फांसी की सजा जैसा कानून क्यों नहीं बनाया।

06 Dec 11:05 AM

अब योगी आएं या मोदी, कोई फर्क नहीं पड़ता : पायलट

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट का कहना है कि प्रदेश के 33 जिलों में कांग्रेस की जबर्दस्त लहर है, निश्चित रूप से सरकार हमारी पार्टी की बन रही है। अब जनता का राज आएगा।

06 Dec 10:00 AM

थम गया चुनावी शोर, अब पर्यवेक्षक रखेंगे प्रत्याशियों पर कड़ी नजर

प्रदेश में चुनावी शोर-शराबा बुधवार की शाम पांच बजे थम गया। अब चुनाव आयोग की ओर से तैनात पर्यवेक्षक प्रत्याशियों पर कड़ी नजर रखेंगे।

06 Dec 10:35 AM