ख्वाहिश कुछ नहीं, पार्टी जो निर्देश देगी उसकी ही पालना करूंगा: अशोक गहलोत - Dainik Navajyoti
Dainik Navajyoti Logo
Friday 16th of November 2018
Home   >  Rajasthan   >   News
राजस्थान

ख्वाहिश कुछ नहीं, पार्टी जो निर्देश देगी उसकी ही पालना करूंगा: अशोक गहलोत

Tuesday, November 06, 2018 02:45 AM

जोधपुर । पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अशोक गहलोत ने कहा है कि पार्टी हाईकमान जो निर्देश देगी वो ही काम करूंगा। मुझे दो बार मुख्यमंत्री बनाया, तीन बार केंद्रीय मंत्री व राष्ट्रीय कांग्रेस का महासचिव बनाया। आगे भी हाईकमान जैसा उपयोग राजस्थान में मुझसे लेना चाहती है वो तैयार हैं। उन्हें अगर पार्टी के लिए साधु सा जीवन बिताना पड़े तो वो भी मंजूर है, लेकिन अंतिम सांस तक कांग्रेस के सिपाही, कार्यकर्ता की तरह ही काम करूंगा। वर्तमान में उनकी ख्वाहिश है कि वो केंद्र में और राजस्थान में कांग्रेस की सरकार लाने के लिए अपने अनुभव का पूरा प्रयोग करे।


वे यहां कायलाना लेक में संभाग भर से आए हजारों कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने अपने उद्बोधन में वसुंधरा राजे से लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को कई बार चेताया और उन पर देश को और राज्य को खोखला करने का आरोप भी लगाया। गहलोत ने कहा कि राजस्थान में पोपाबाई का राज है। उन्होंने कहा कि आज सरदार पटेल की प्रतिमा लगाकर अपने आपको देशभक्त कहने वाले भूल जाते हैं कि इन्हीं पटेल ने आरएसएस पर प्रतिबंध लगाया था। इसी आरएसएस की विचारधारा ने अंहिसा के पुजारी महात्मा गांधी की हत्या की थी। उनका बखान ये बार-बार करके क्या बताना चाहते हैं। देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की दी हुई बुनियाद पर आज भारत खड़ा है।


उसके साथ आजाद हुए पाकिस्तान की क्या हालत है। ये इंदिरा गांधी ही थी जिन्होंने बंगलादेश का उदय कर देश का भूगोल बदल दिया। वे कांग्रेस पार्टी व देश के लिए शहीद हो गयी। राजीव गांधी भी देश के लिए शहीद हुए। 30 साल बाद जिस पार्टी को देश ने पूरा बहुमत दिया उसके ही प्रधानमंत्री ने देश को बर्बादी के चौराहे पर लाकर खड़ा कर दिया। नोटबंदी से लेकर आज तक जो भी फैसले हुए वो हम सभी को मालूम है। परेशान केवल जनता हुई। आज केंद्र का मंत्री कठपुतली बना हुआ है। प्रधानमंत्री सीधे उस मंत्री के सचिव से बात करके योजना को लागू कर देते हैं तो सचिव के सामने मंत्री की क्या हैसियत रह जाएगी। ये ही कारण है कि देश में कानून व्यवस्था बिगड़ी हुई है।


हवाई जहाज सौदे में जबरदस्त घोटाला
गहलोत ने कहा कि जब राजीव गांधी प्रधानमंत्री थे तो विपक्ष ने बोफोर्स का मुद्दा उठाकर ऐसा माहौल खड़ा कर दिया कि सरकार ही गिर गयी। यहां ये बता दे कि 1965 के भारत पाक युद्ध में जिस नेट विमान ने पाकिस्तान में घुस कर तबाही मचायी थी उस नेट को बनाने वाली एचएएल कंपनी भारत सरकार का उपक्रम है। वर्तमान रक्षा सौदे में जब पूर्व सौदे को रद्द करना था तो इस कंपनी से ही सौदा क्यों नही किया गया । उसे ठेका ना देकर अंबानी को ठेका दे दिया गया।


जब हमारी रक्षा एजेंसियां कह रही है कि उसे 126 एयरप्लेन की जरूरत है तो 26 ही क्यों ली गयी। 526 करोड़ की जगह 1630 करोड़ रुपए में सौदा क्यों किया गया ? इसके लिए जब हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी व कांगे्रस पार्टी ने जवाब मांगा और इसकी जांच सीबीआई से करवाने की मांग की और सीबीआई को कांग्रेस पार्टी ने ज्ञापन सौंपा। सीबीआई जांच करती उसके पहले सीबीआई पर पुलिस ने छापा मार कर उसके दो कमरे सीज कर दिए। कागजात उठा लिए गए। ये देश में पहला मौका है कि सीबीआई जैसी संस्था पर पुलिस ने छापा मारा है। इस तरह इस घोटाले की लीपापोती करने का प्रयास किया जा रहा है।


जोधपुर का दर्द आया सामने
गहलोत ने कहा कि उनके कार्यकाल में बनी योजनाओं को जोधपुर में इसलिए रोक दिया गया क्योंकि वे जोधपुर के रहने वाले है और इस कारण ही इस शहर के साथ सौतेला व्यवहार किया गया। उन्होंने कहा कि जोधपुर आज प्यासा है इसकी सूचना है, उनके कार्यकाल में लायी गयी इंदिरा गांधी कैनाल के पानी के लिए द्वितीय चरण का काम पूरा करवाया गया, इसके बाद तीसरे चरण को शुरू क्यों नही किया गया, इसका जवाब इस सरकार के पास नहीं है। इसी कारण आज पूरा पानी नहीं मिल पा रहा है।


उन्होंने कहा कि जोधपुर में हर तरह की संस्थाएं है, फिर भी कई काम यहां रूकवा दिए गए, लेकिन अगर कांग्रेस की सरकार बनती है तो निश्चित रहो वसुंधरा सरकार की बनायी योजना को बंद नही करेंगे। उन्होंने कहा कि रिफाइनरी को इसलिए ठंडे बस्ते में रखा गया क्योंकि ये आरोप था कि हमने सरकार का 26 प्रतिशत हिस्सा ही क्यों रखा, साढे चार साल बाद प्रधानमंत्री को बुलाकर फिर से शिलान्यास तो करवाया लेकिन अब हम पूछ रहे है कि फिर भी अब सरकार का हिस्सा 26 प्रतिशत ही क्यों है?


गहलोत के समक्ष कांग्रेस नेताओं ने दावेदारी जताई
कांग्रेस के संगठन महासचिव एवं पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के मंगलवार को जोधपुर पहुंचने के साथ ही विधानसभा चुनाव में जोधपुर सहित प्रदेश के विभिन्न निर्वाचन क्षेत्रों से अपनी उम्मीदवारी चाहने वाले कांग्रेस नेताओं ने उनके समक्ष न केवल शक्ति प्रदर्शन किया बल्कि टिकटों के लिए दावेदारी भी जताई। अपने तीन दिन के प्रवास पर मंगलवार को गहलोत जोधपुर पहुंचते ही पहले तो एयरपोर्ट पर और बाद में कायलाना रोड स्थित होटल लेक व्यू पैलेस में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ स्थानीय नेताओं का सैलाब उमड़ पड़ा। पहले से तयशुदा कार्यक्रम के तहत गहलोत होटल लेक व्यू पैलेस पहुंचे तो वहां सरगर्मियां एकाएक बढ़ गई।


पश्चिमी राजस्थान के कई विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों से अपने समर्थकों के साथ आए टिकट के आशार्थियों ने अपनी दावेदारी पूर्व मुख्यमंत्री गहलोत के समक्ष पेश की। जोधपुर के सूरसागर, शहर व सरदारपुरा निर्वाचन क्षेत्रों से आधा दर्जन से अधिक स्थानीय कांग्रेस नेता गहलोत से मिले और अपनी दावेदारी जताई। सुपारस भंडारी, कन्हैयालाल पारीक, शांतिलाल लिम्बा, मनीष राठी, व मनोज संचेती इनमें मुख्य रूप से शामिल थे। इसके अलावा जिले के छह अन्य विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों भोपालगढ़, ओसियां, बिलाड़ा, लूणी, फलोदी व शेरगढ़ से भी टिकट के दर्जनों दावेदार अपने समर्थकों के हुजूम के साथ गहलोत से मिले।

Other Latest News of Rajasthan -

घायलों को लेकर जा रही एंबुलेंस बस से टकराई, 4 की मौत

राजस्थान के डूंगरपुर जिले में बिछीवाड़ा थाना क्षेत्र में एम्बुलेंस के बस से टकराने पर चार लोगों की मौत गई तथा आधे दर्जन से अधिक लोग घायल हो गये।

09 Nov 15:50 PM

राजस्थान: बसपा ने दूसरी सूची में जारी किए 6 उम्मीदवारों के नाम

राजस्थान में आगामी सात दिसम्बर को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए बहुजन समाज पार्टी ने अपने प्रत्याशियों की दूसरी सूची जारी कर दी।

09 Nov 15:45 PM

बेटी की फरमाइश पर बनाए चांदी के पटाखे

दीपावली पर शहर में कई चीजों को लेकर नए-नए प्रयोग हो रहे हैं। कहीं पर सुंदर स्वागत मेहमानों के स्वागत के लिए सजाया गया है, तो कहीं पर फ्लावर थीम पर दुकानों पर गेट लगाए गए हैं।

09 Nov 10:40 AM

भाई दूज का त्यौहार आज, जानें शुभ मुहूर्त

दिवाली के त्यौहार के पांचवे दिन भाई दूज मनाया जाता है। यह दीपावली और गोवर्धन के बाद मनायसा जाता है।

09 Nov 10:20 AM

निकाह के तीन दिन बाद कागज पर तीन बार तलाक लिखकर घर से भाग गया पति

युवती को पसन्द करने के बाद शादी के महज तीन दिन बाद ही उसका पति सादे कागज पर तीन बार तलाक लिखकर लापता हो गया। ससुराल वालों ने पीड़िता के पिता को बताया कि लड़का घर छोड़कर चला गया है। पता नहीं कहां गया है। हमने तो पुलिस में गुमशुदगी भी दर्ज करा दी है।

06 Nov 02:00 AM