आखिर के 2 दिन में बाढ़, प्रत्याशियों में नामांकन खारिज होने का डर - Dainik Navajyoti
Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 18th of December 2018
Home   >  Rajasthan assembly election 2018   >   News
राजस्थान चुनाव-2018

आखिर के 2 दिन में बाढ़, प्रत्याशियों में नामांकन खारिज होने का डर

Tuesday, November 13, 2018 11:50 AM

जयपुर। विधानसभा चुनावों के लिए नामांकन का दौर सोमवार से शुरू हो चुका है, लेकिन अब तक के नामांकन ट्रेंड को देखे, तो आखिर के दो दिन ही ज्यादातर राजनेतिक दलों से जुडे प्रत्याशी अपना नामांकन भरते है। प्रत्याशियों के मन में नामांकन खारिज होने का भी डर रहता है, जिसके कारण एक प्रत्याशी चार नामांकन सेट भरता है। गत चुनावों में आखिरी दो दिन में सबसे ज्यादा नामांकन भरे गए। इसमें भाजपा की ओर से 208 और कांग्रेस के 215 प्रत्याशियों के नामांकन दाखिल किए गए।

दरअसल चुनावों में नामांकन भरने वाले प्रत्याशियों को भी नामांकन खारिज होने का डर सताता है। अधिकतर प्रत्याशियों की ओर से चार-चार नामांकन फॉर्म तक भरे जाते है। पिछले चुनावों में कुल 3168 नामांकन भरे गए, जिनमें से 568 नामांकन फार्म केवल भाजपा और कांग्रेस प्रत्याशियों के थे। अर्थात इससे स्पष्ट होता है कि हर प्रत्याशी ने एक से अधिक आवेदन जमा कराए है। राज्य में 200 सीटों पर भारतीय जनता पार्टी की ओर से 293 आवेदन जमा कराए गए। इनमें डमी प्रत्यार्शी के आवेदन भी जमा कराए जाते हैं। वहीं कांग्रेस से 275 आवेदन जमा हुए। इनके अलावा अन्य दलों और निर्दलियों के मिलाकर कुल 3168 आवेदन जमा हुए। इनमें सबसे ज्यादा नामांकन आखिर के दो दिनों में जमा हुए। इनमें भाजपा की ओर से 208 और कांग्रेस के 215 नामांकन आवेदन जमा हुए।

नामांकन के बाद चाय-समोसे पर नजर
प्रत्याशियों की ओर से नामांकन दाखिल करने के बाद ही चुनाव आयोग की सख्ती का सिलसिला शुरू हो जाएगा अर्थात प्रत्याशियों की ओर से समर्थकों को पिलाई जाने वाली चाय और समोसे के खर्च पर भी आयोग की नजर रहेगी। इस बार आयोग ने मॉनिटरिंग के लिए पुख्ता व्यवस्था की है, ऐसे में प्रत्याशियों की ओर से किए जाने वाले खर्च के ब्यौरे में आयोग को गुमराह नहीं किया जा सकेगा। आयोग ने प्रत्याशियों की व्यक्तिगत खर्च की सीमा 28 लाख रुपए तय की है। यह खर्च नामांकन भरने के बाद मतदान तक का होगा। इसमें प्रचार का खर्च भी शामिल किया जाएगा।

लेनी होगी आठ विभागों से एनओसी
साथ ही नामांकन के दौरान प्रत्याशियों को आठ विभागों से एनओसी भी लेनी होगी, जिसमें बताना होगा कि उन पर इन विभागों को किसी तरह का एक भी रुपया बकाया नहीं है। इनमें कार्मिक विभाग के सारे अनुभाग, विद्युत वितरण निगम, मोटर गैराज, संपदा विभाग, जीएडी गु्रप, पीएचईडी, बीएसएनएल, पीडब्ल्यूडी से यह नो ड्यूज लेना होगा और नामांकन पत्र के साथ लगाना होगा।

पालना नहीं करने पर यह सख्ती
किसी प्रत्याशी की ओर से आयोग के नियमों की पालना नहीं की गई, तो उसके खिलाफ कार्यवाही के लिए एक प्रक्रिया तय की गई है। इसमें जिला स्तरीय समिति एमसीएमसी के समक्ष चार-पांच तरह के मामले भेजेगी। इसके बाद अभ्यर्थियों को आरओ की ओर से नोटिस भेजा जाएगा। जवाब व दस्तावेज आने पर आरओ यह रिपोर्ट एमसीएमसी को भेजेगा। इसके बाद एमसीएमसी निर्णय करेगी कि यह पेड न्यूज का मामला है। इसके बाद प्रत्याशी के खाते में उसकी राशि जोड़ी जाएगी।
 

Other Latest News of Rajasthan-assembly-election-2018 -

माथुर मंत्रिमण्डल का त्याग-पत्र

शिवचरण माथुर के कार्यकाल में समूचे देश के साथ-साथ नवम्बर,1989 में नवम लोकसभा का चुनाव हुआ जिसमें सभी 25 स्थानों पर सत्तारूढ़ कांगे्रस (इ)के प्रत्याशियों को अभूतपूर्व पराजय का मुंह देखना पड़ा।

14 Nov 11:20 AM

दैनिक नवज्योति की चुनावी यात्रा पहुंची अजमेर, अण्डरपास और सीवरेज के मुद्दे छाएं

प्रदेश में विधानसभा चुनावों की चौसर बिछने के साथ ही कार्यकर्ताओं में भी जोश बढ़ने लगा है।

14 Nov 11:10 AM

सर्विस वोटर्स के लिए आयोग ने की नई व्यवस्था, पहली बार ETPBS पद्धति का उपयोग

राज्य के एक लाख 53 हजार से ज्यादा सर्विस वोटर्स अपने मताधिकार से वंचित न रहें। इसके लिए भारत निर्वाचन आयोग में विशेष व्यवस्था की है।

13 Nov 16:15 PM

10 सीटों के लिए हुए नामाकंन, कलेक्ट्रेट में सुरक्षा के कड़े इंतजाम

विधानसभा चुनाव के नामाकंन के दूसरा दिन जयपुर कलेक्ट्रेट में शहर की 10 सीटों के लिए नामाकंन हुए, जिनमें झोटवाड़ा, आमेर, हवामहल, विद्याधर नगर, सिविल लाइन्स, किशनपोल, आदर्शनगर, मालवीयनगर, सांगानेर व बगरू विधानसभा क्षेत्र के नामाकंन भरे गए।

13 Nov 14:35 PM

हरिदेव जोशी दूसरी बार सत्तारूढ़

माथुर की सरकार के गठन के साथ ही कांग्रेस (इ) विधायक दल में असंतोष उत्पन्न हो गया जो समय पाकर धीरे धीरे बढ़ता गया।

13 Nov 11:55 AM