शेख हसीना की जीत और भारत - Dainik Navajyoti
Dainik Navajyoti Logo
Thursday 17th of January 2019
Home   >  Opinion   >   News
ओपिनियन

शेख हसीना की जीत और भारत

Friday, January 11, 2019 08:45 AM

शेख हसीना (फाइल फोटो)

शेख हसीना चौथी बार बांग्लादेश की प्रधानमंत्री बनी। पूरे देश में इनके प्रधानमंत्री बनने पर खुशी की लहर दौड़ गई। होता यह है कि जब कोई राजनेता लम्बी अवधि तक सत्ता में रहता है तो लोग आजीज आ जाते हैं और सत्ता विरोधी लहर के चलते उस राजनेता को सत्ता से हटा देते हैं। परन्तु शेख हसीना के साथ यह बात नहीं हुई। पूरे देश में उनकी जय जयकार हो रही है। यहां तक कि विदेशों में भी आईएमएफ और वर्ल्ड बैंक ने शेख हसीना की जीत पर खुशी जाहिर की है। शेख हसीना की पार्टी ने 298 सीटों में से 288 सीटों पर विजय हासिल की और सबसे बड़ी बात यह हुई कि उनकी पार्टी को 80 प्रतिशत वोट मिले। विदेशी पर्यवेक्षक भी इस बात को महसूस कर रहे हैं कि बांग्लादेश में विपक्षी पार्टियां चाहे जो कहें परन्तु चुनाव पूरी तरह निष्पक्ष हुआ और लोगों ने बड़े उत्साह से मतदान में भाग लिया।

देश के अन्दर और देश के बाहर निष्पक्ष प्रेक्षक यह कह रहे हैं कि शेख हसीना ने सन् 2008 में जहां देश में आर्थिक उन्नति 5 प्रतिशत थी, उसे 2017-18 में बढ़ाकर करीब करीब 8 प्रतिशत पर ला दिया। आम लोगों के जीवन में अप्रत्याशित सुधार हुआ। देश में तो विकास हुआ ही, देश के बाहर भी जो प्राय: 30 लाख मजदूर काम करते हैं, उन्होंने भी जी खोलकर बांग्लादेश में अपनी आमदनी का बहुत बड़ा भाग भेजा। एक वर्ष के अन्दर ही बांग्लादेश में विदेशों से आने वाला धन 18 प्रतिशत बढ़ गया। ऐसा एशिया के किसी देश में नहीं हुआ था। कई मामलों में बांग्लादेश के लोग भारत से ज्यादा सुखी संपन्न हैं। प्राय: आम जनता किसी न किसी बहाने हर सप्ताह कोलकाता जाकर जरूरत के सामान खरीदती है।

क्योंकि बांग्लादेश में इतने हवाई जहाज हैं कि कोलकाता पहुंचने में उन्हें मात्र 20-25 मिनट लगते हैं। एक प्रमाणिक सर्वे के अनुसार जब बांग्लादेशी मोजमस्ती में रहते हैं तो चार्टर्ड प्लेन लेकर कोलकाता चले जाते हैं। गत वर्ष अनेक बांग्लादेशियों ने चार्टर्ड प्लेन लेकर कोलकाता में ‘बाहुबली’ फिल्म भी देखी थी। प्रमाणिक आंकड़ों के अनुसार दुर्गा पूजा और ईद के दिनों में भारत ने 15 हजार से अधिक बांग्लादेशियों को कोलकाता जाने के लिए वीजा जारी किए थे। शेख हसीना की सरकार ने लोगों के रहन सहन में परिवर्तन करके बांग्लादेश की शीशु मृृत्यु दर जो बहुत अधिक थी उसे बड़े पैमाने पर कम कर दिया। अब बांग्लादेश में किसी भी शिशु के जन्म पर उत्सव मनाया जाता है और कहा जाता है कि उसकी उम्र कम से कम 72 वर्ष होगी जबकि भारत में यह केवल 68 वर्ष है। पाकिस्तान में तो इससे भी कम है।

विपक्षी दल की नेता खालिदा जिया भ्रष्टाचार के अनेक मामलों में जेल मे सजा काट रही हैं। उनकी पार्टी एक तरह से छिन्न भिन्न हो गई है। खालिदा जिया ने अपने बेटे तारिक को अपनी पार्टी का अध्यक्ष बनाया था। परन्तु उस पर भी बांग्लादेश में भ्रष्टाचार के अनेक मुदकमे चल रहे हैं। मुकदमों के डर से तारिक लन्दन में छिपा हुआ है। जब से शेख हसीना प्रधानमंत्री हुई हैं, भारत के साथ उनके संबंध अत्यन्त ही सौहार्दपूर्ण रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी के संग मिलकर उन्होंने कई महत्वपूर्ण समझौते किए और बांग्लादेश में रह रहे आतंकवादियों को मार भगाया। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को यह भरोसा दिलाया कि भविष्य में भी बांग्लादेश भारत विरोधियों को शरण नहीं देगा।

शेख हसीना इसलिए भी देश में लोकप्रिय हो गई हैं कि उन्होंने 1971 के बांग्लादेश के स्वतंत्रता संग्राम का विरोध करने वालों को कड़ी सजा दिलाई है। उधर अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में विदेशी निवेश को प्रोत्साहित करके लाखों युवकों को रोजगार दिलाया है। ये सभी युवक आज की तारीख में शेख हसीना का गुणगान कर रहे हैं। भारत ने व्यापार, निवेश, शिक्षा, सड़क, रेल और बिजली के क्षेत्र में बांग्लादेश की भरपूर मदद की है और भविष्य में और अधिक सहायता देने का भरोसा दिलाया है। सीमा समझौता करके भारत ने दुनिया को दिखा दिया है कि पड़ोसियों के साथ कैसे शांतिपूर्ण रहा जा सकता है। यह भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दिखा दिया है कि भारत के प्रधानमंत्री ‘सबका साथ - सबका विकास’ चाहते हैं।

जैसे ही शेख हसीना प्रधानमंत्री बनी, भारत ने ऐलान किया कि वह जापान के साथ मिलकर हिन्द महासागर में ढांचागत परियोजना लगाएगा जिससे बांग्लादेश को भरपूर लाभ होगा। बांग्लादेश के पक्षिणी तट पर गहरे समुद्र में एक बड़ा बन्दरगाह बनाया जाएगा जिससे बांग्लादेश की अर्थव्यवस्था को बहुत अधिक लाभ होगा। चीन ने हमेशा यह प्रयास किया कि वह बांग्लादेश को अपने पक्ष में कर ले। परन्तु शेख हसीना ने चीन के हर प्रस्ताव को ठुकरा दिया। क्योंकि उन्हें पता था कि यदि एक बार चीन बांग्लादेश में घुस गया तो वह यहां की अर्थव्यवस्था को छिन्न भिन्न कर देगा।

बांग्लादेश की नेता शेख हसीना के प्रधानमंत्री बनने पर नरेन्द्र मोदी ने सबसे पहले उन्हें चौथी बार प्रधानमंत्री बनने पर बधाई दी जिसकी चर्चा पूरी दुनिया में हुई। शेख हसीना ने खुले हृदय से कहा कि वह भारत को अपना अभिन्न मित्र समझती हैं और उन्हें इस बात का पूरा भरोसा है कि आने वाले दिनों में भारत और बांग्लादेश के संबंध और भी प्रगाढ़ होंगे।  कुल मिलाकर शेख हसीना के प्रधानमंत्री बनने से भारत की कूटनीति को अभूतपूर्व सफलता मिली है और इसने सारी दुनिया की आंखे खोल दी हैं। इसमें कोई संदेह नहीं कि भारत के अन्दर और बाहर के लोग जो नरेन्द्र मोदी की आलोचना करते रहे हैं कि भारत पड़ोसियों के साथ दादागिरी करता है, ऐसे लोगों को यह सबक मिल गया होगा कि भारत पड़ोसियों के साथ मधुर संबंध बनाए हुए है और भविष्य में भी भारत ऐसा ही करेगा।

- गौरीशंकर राजहंस





 

 

Other Latest News of Opinion -

ये पानीपत की तीसरी लड़ाई है?

अच्छे दिनों का इंतजार करते-करते अब हम भारत के लोग, जुमलों, झांसों, आधी रात को जारी अध्यादेशों और संसद के चटपट पास

17 Jan 08:00 AM

किसका काम बिगाड़ेगी बुआ-भतीजे की जोड़ी

मायावती और अखिलेश की प्रेस कांफ्रेंस की शुरूआत यूपी की चार बार की मुख्यमंत्री रह चुकी मायावती ने की। पूरी वार्ता की सबसे ज्यादा जरूरी बातें मायावती के मुंह से निकली।

16 Jan 12:55 PM

राज -काज में जानें क्या है खास

राज का काज करने वाले कारिन्दों में इन दिनों एक विज्ञापन काफी चर्चा में है। मतदाताओं को जगाने के लिए बनाए इस विज्ञापन की जगह जागो राजनेताओं की सलाह देने वालों का तर्क है कि जागे हुए मतदाता को जगाने की जरूरत नहीं है।

14 Jan 11:05 AM

राजस्थान ने दी विवेकानंद को एक नई पहचान

युगपुरुष, वेदांत दर्शन के पुरोधा, मातृभूमि के उपासक, विरले कर्मयोगी, दरिद्र नारायण मानव सेवक, तूफानी हिन्दू साधु, करोड़ों युवाओं

12 Jan 10:20 AM

चीन के युद्धोन्माद पर संज्ञान जरूरी

चीन का युद्धोन्माद यदा-कदा दुनिया के सामने आता ही रहता हैै, कभी अपनी अराजक सैन्य शक्ति के प्रदर्शन के तौर पर चीन दुनिया

09 Jan 09:30 AM