सियासत से दूर होती गई गांधी टोपियां - Dainik Navajyoti
Dainik Navajyoti Logo
Friday 22nd of February 2019
Home   >  Opinion   >   News
ओपिनियन

सियासत से दूर होती गई गांधी टोपियां

Thursday, October 11, 2018 09:25 AM

आजादी के संघर्ष और देश के विकास की गवाह रही गांधी टोपियां अब सियासत से दूर हो चली है। आजादी के लम्बे संघर्ष और बाद के कालखण्ड में कांग्रेस में तो गांधी टोपी पहनने वालों की बहार थी, लेकिन अब गांधी टोपी कांग्रेस सेवादल के कार्यक्रम में ही प्रतीक के रूप में दिखाई पड़ती है। गांधी टोपी को भी आमतौर पर कांग्रेस पार्टी के नेता ही पहनते थे। भारतीय राजनीति में कांग्रेस में ऐसे नेताओं की लम्बी फेहरिस्त है, जो गांधी टोपी के कारण ही राजनीति में अमर हो गए।

आजादी के बाद के कालखण्ड पर चर्चा करे तो पं.नेहरू, बाबू राजेन्द्र प्रसाद से लेकर राजस्थान में पूर्व मुख्यमंत्री टीकाराम पालीवाल, परसराम मदेरणा, चन्दनमल बैद, रामनारायण चौधरी सहित अनेक दिग्गज गांधी टोपी पहनते थे। हालांकि, पुराने नेताओं की चर्चा करे तो राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ पहाड़िया आज भी गांधी टोपी पहने नजर आते हैं। गांधी टोपी से शुरू में जनसंघ और बाद में भाजपा ने दूरी सी बनाकर रखी। हालांकि, भाजपा के नेता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की काली टोपी जरूर चाव से पहनते हैं।

विधानसभा से गायब हुई गांधी टोपी
राज्य विधानसभा में एक दौर ऐसा भी रहा है, जब गांधी टोपियां सदन में खूब दिखाई पड़ती थी, लेकिन वर्तमान राज्य विधानसभा में एक भी गांधी टोपी दिखाई नहीं देती है।

हर दल ने बनाई अपनी टोपी
गांधीवादी नेता अन्ना हजारे के भ्रष्टाचार के खिलाफ आन्दोलन शुरू करने के समय गांधी टोपी फिर सुखियों में आई। बाद में अरविन्द केजरीवाल ने वर्ष 2012 में आम आदमी पार्टी का गठन कर गांधी टोपी की सियासत में वापसी कराई, लेकिन गांधी टोपी का प्रतीक के रूप में इस्तेमाल हुआ। बाद में समाजवादी पार्टी ने भी अपनी टोपी का इस्तेमाल किया, लेकिन वह भी प्रतीक के रूप में ही दिखाई दी।

Other Latest News of Opinion -

लोकतंत्र में धार्मिक आस्थाओं का खेल

विकास और परिवर्तन के इस दौर में हमारी विडंबना, विरोधाभास और विसंगतियों का ऐसा घमासान मचा हुआ है कि हम स्वभाव

25 Oct 08:35 AM

देश में खुलें सफाई प्रशिक्षण केन्द्र

गत दिनों दिल्ली के कैपिटल ग्रीन डीएलएफ अपार्टमेंट में सीवर की सफाई करते हुए पांच लोगों की मौत हो गई थी। इसी तरह दिल्ली

15 Oct 08:00 AM

एक साथ कई संदेश दे गए हैं पुतिन

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की दो दिन की भारत यात्रा कई अर्थों में महत्वपूर्ण रही । भारत के नजरीए से इस यात्रा के महत्व

13 Oct 08:30 AM

रूस हमारा जांचा परखा मित्र है

भी-अभी संपन्न हुए रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमिर पुतिन की भारत यात्रा कई मायनों में अत्यन्त ही महत्वपूर्ण रही। भारत ने रूस के साथ

12 Oct 09:35 AM

आन गांव के सिद्ध!

मंत्रणा के मंच पर बैठी बत्तीसियां आज राहुल गांधी के इस बयान को दाद दे रही थीं कि कांग्रेस इस बार अपना कोई पैराशूटी प्रत्याशी चुनावी मैदान में नहीं उतारेगी। इसकी कुछ लोग तारीफ कर रहे थे, तो कुछ को यह बात रास नहीं आई।

11 Oct 09:35 AM