महिलाओं में मोतियाबिंद होने का जोखिम ज्यादा: डॉ. गोयल - Dainik Navajyoti
Dainik Navajyoti Logo
Tuesday 15th of January 2019
Home   >  Health   >   News
स्वास्थ्य

महिलाओं में मोतियाबिंद होने का जोखिम ज्यादा: डॉ. गोयल

Saturday, October 27, 2018 11:20 AM

जयपुर। प्रसिद्ध आॅप्थैलमोलॉजिस्ट और आनंद आई अस्पताल के निदेशक डॉ. सोनू गोयल के अनुसार पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में मोतियाबिंद होने का जोखिम ज्यादा रहता है। भारत में मोतियाबिंद के मामलों के बारे में बात करते हुए डॉ. गोयल ने महिलाओं को मोतियाबिंद के जोखिमों के बारे में ज्यादा जागरूक होने और इसकी जल्द जांच के लिए नियमित तौर पर चेकअप कराने पर जोर दिया। उन्होंने बताया कि दुनियाभर में मोतियाबिंद के रोगियों में से करीब दो तिहाई या 61 फीसदी महिलाएं हैं, जिससे स्पष्ट है कि महिलाओं में मोतियाबिंद होने का जोखिम पुरुषों के मुकाबले अधिक होता है। उन्होंने कहा कि अक्सर आंखों से संबंधित समस्या पर किसी का ध्यान नहीं दिया जाता है और उसका इलाज नहीं हो पाता है।

गोयल ने कहा कि आज के समय में इंट्रा-आॅक्यूलर लेंसों के विभिन्न विकल्प उपलब्ध हैं, जैसे एक्स्टेंडेड रेंज आॅफ विजन इंट्रा आॅक्यूलर लेंसेस जो निकट, दूर और मध्यम दूरी के लिए उच्च गुणवत्ता की कंटीन्यूअस रेंज आॅफ  विजन देता है। अक्सर इनके इस्तेमाल से सर्जरी के बाद करेक्टिव आई वियर पहनने की जरूरत घट जाती है। हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि देश की प्रत्येक महिला की पहुंच इस प्रकार के एडवांस्ड गुणवत्ता के इलाज तक हो।

अधिक जोखिम के कई कारण
महिलाओं में मोतियाबिंद होने के अधिक जोखिम की कई वजह हैं। औसतन महिलाओं का जीवनकाल पुरुषों के मुकाबले अधिक होता है, जिससे उन्हें बढ़ती उम्र से संबंधित बीमारियां जिसमें आंख से संबंधित बीमारियां भी शामिल हैं होने का जोखिम बढ़ जाता है। अन्य अध्ययनों में खुलासा हुआ है कि मासिक धर्म समाप्त होने के बाद शरीर में एस्ट्रोजन का स्तर घटने लगता है, जिससे भी महिलाओं में मोतियाबिंद होने की आशंका बढ़ जाती है। भारत पर केंद्रित अध्ययनों में सामने आया है कि जैविक ईंधन से खाना पकाने वाली महिलाओं में मोतियाबिंद होने की आशंका अधिक रहती है। घर में खाना पकाने का काम महिलाएं करती हैं, वह भी बिना चिमनी के स्टोव पर, जिससे उनकी आंखों में जैविक ईंधन के जलने से उठने वाला धुआं बड़ी मात्रा में जाता है।

यह दी सलाह
डॉ. गोयल की सलाह है कि महिलाओं को 40 वर्ष की होते ही अपनी आंखों की संपूर्ण जांच करानी चाहिए। इससे उन्हें होने वाली आंखों की ऐसी बीमारी का भी पता चल सकता है, जिसके लक्षण शुरुआती चरण में स्पष्ट नहीं दिखते हैं। लक्षणों को नजर अंदाज करना और अपने-आप कोई भी दवाई लेने से आंखों की बीमारी की जांच में और देर होती है और अक्सर समय पर जांच हो नहीं पाती, जिससे इलाज करना जटिल हो जाता है।

 

Other Latest News of Health -

देश के स्वास्थ्य और भविष्य पर हुआ मंथन

आईआईएचएमआर यूनिवर्सिटी की ओर से होटल क्लार्क्स आमेर में वार्षिक कार्यक्रम प्रदन्या के 23वें संस्करण का आयोजन हुआ

04 Dec 12:15 PM

फेफड़े के साथ दिल और दिमाग को नुकसान पहुंचाती है COPD

धूम्रपान और प्रदूषण के कारण फैलने वाली खतरनाक बीमारी सी.ओ.पी.डी (क्रॉनिक आॅब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज) फेफड़े ही नहीं, शरीर के दूसरे अंगों को भी बुरी तरह प्रभावित करती है।

22 Nov 11:40 AM

98 साल के इराकी कार्डिक मरीज की सफल ओपन हार्ट सर्जरी

इराक में रहने वाले 98 वर्षीय मोहम्मद कादीम सईद की ओपन हार्ट सर्जरी सफल हो गयी, जिस उम्र में व्यक्ति चलने फिरने लायक नहीं रहता वो मरीज हवाई मार्ग से मेंदाता अस्पताल में आया और उसकी एंजियोग्राफी में उनकी धमनियों में ब्लॉक ब्लड वेसल्स था, जो कि इस उम्र में हो जाता है।

15 Nov 11:10 AM

विश्व में मधुमेह से पीड़ित होने वाला हर पांचवा व्यक्ति भारतीय

डॉ. पीपी पाटीदार वरिष्ठ मधुमेह एवं डायबिटीज रोग विशेषज्ञ जीवन रेखा अस्पताल ने बताया की मधुमेह रोगियों की संख्या दुनियाभर के अंदर सबसे ज्यादा भारत में है।

13 Nov 15:35 PM

निमोनिया की वजह से पांच वर्ष से कम उम्र के 70 प्रतिशत बच्चों की मौत

निमोनिया व डायरिया की वजह से होने वाली बच्चों की मौतों का आंकड़ा भारत में सबसे ज्यादा है। 2016 में भारत में निमोनिया

12 Nov 13:10 PM