हर साल एक मिलियन से ज्यादा बच्चे सेरेब्रल पॉल्सी से ग्रसित - Dainik Navajyoti
Dainik Navajyoti Logo
Friday 16th of November 2018
Home   >  Health   >   News
स्वास्थ्य

हर साल एक मिलियन से ज्यादा बच्चे सेरेब्रल पॉल्सी से ग्रसित

Sunday, October 07, 2018 10:00 AM

जयपुर। सेरेब्रल पाल्सी एक तंत्रिका संबंधी विकार है जो एक बच्चे के चलने फिरने, हाथ पांव हिलाने की कला और मांसपेशीयों की टोन को प्रभावित करता है। इस बीमारी से हमारे देश में एक साल में करीब एक मिलियन से ज्यादा बच्चे ग्रसित होते हैं। इनमें दो से तीन वर्ष तक के बच्चों में एक हजार बच्चों में से पांच बच्चों में यह बीमारी पाई जाती है। ज्यादातर मामलों में, सेरेब्रल पॉल्सी मस्तिष्क के नुकसान के कारण होता है जो या तो जब बच्चा गर्भाशय में होता है या जन्म के दौरान अथवा उसके तुरंत बाद होता है।

शिशु हड्डी एवं जोड़ रोग विशेषज्ञ डॉ. रजत मालोत ने बताया कि वर्तमान में मस्तिष्क के लिए कोई इलाज नहीं है, लेकिन अत्याधुनिक चिकित्सा और शल्य चिकित्सा में उपचार के विकल्प हैं जो बच्चों और बड़ों को गुणवत्ता वाला जीवन जीने में मदद कर सकते हैं। यह कोई बीमारी नहीं है। यह एक स्थिर मस्तिष्क क्षति है जो प्रगति नहीं करता है। हालांकि, इसके लक्षण समय के साथ प्रगति कर सकते हैं।

कारण
मस्तिष्क की क्षति, माता में कोई बीमारी होना, आनुवंशिक कारकों, या गर्भवती होने पर गैरकानूनी दवाओं का उपयोग करने से और सेरेब्रल पॉल्सी प्रसव के दौरान भी हो सकती है। बहुत जल्दी पैदा हुए शिशुओं में यह विकार विकसित होने का खतरा ज्यादा होता है। क्योंकि इनमे जल्दी पैदा हाने के कारण आॅक्सीजन की कमी और कई अन्य चिकित्सीय मुद्दों का जोखिम रहता हैं जो मस्तिष्क के नुकसान का कारण बन सकते हैं, जो अंतत: सेरेब्रल पाल्सी का कारण बन सकता है।
कुछ में दौरे हो सकते हैं और कुछ को संज्ञानात्मक विकलांगता हो सकती है। यह शरीर में किसी भी मांसपेशियों को प्रभावित कर सकती है, जैसे की संतुलन, आंख की समस्याएं, मूत्राशय या आंत्र की समस्याएं, जोड़ों में गति की खराब सीमा, और निगलने में कठिनाई शामिल है।

उपचार
सेरेब्रल पॉल्सी के साथ लगभग सभी बच्चों के लिए थेरेपी आम है क्योंकि इससे उन्हें विकास और विकास के महत्वपूर्ण पहलुओं में मदद मिलती है। थेरेपी आमतौर पर निदान के तुरंत बाद शुरू होती है और इसमें भौतिक और भाषण चिकित्सा दोनों शामिल हो सकते हैं। इसका उपचार रोगियों को कार्य करने, खींचने, सुनने, खाने, पीने, सीखने, भाषण, सुनवाई और सामाजिक विकास के लिए तकनीक सीखने में मदद करते हैं।

 

Other Latest News of Health -

निमोनिया की वजह से पांच वर्ष से कम उम्र के 70 प्रतिशत बच्चों की मौत

निमोनिया व डायरिया की वजह से होने वाली बच्चों की मौतों का आंकड़ा भारत में सबसे ज्यादा है। 2016 में भारत में निमोनिया

12 Nov 13:10 PM

महिलाओं में मोतियाबिंद होने का जोखिम ज्यादा: डॉ. गोयल

प्रसिद्ध आॅप्थैलमोलॉजिस्ट और आनंद आई अस्पताल के निदेशक डॉ. सोनू गोयल के अनुसार पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में मोतियाबिंद होने का जोखिम ज्यादा रहता है।

27 Oct 11:20 AM

तकलीफ देह जीवन को सामान्य बना रही है हिप रिप्लेसमेंट सर्जरी

बदलती जीवनशैली के कारण लोगों में कई तरह की हड्डियों की बीमारियां फैल रही है, लेकिन आधुनिक तकनीकों के कारण इन बीमारियों का इलाज भी आसान होता जा रहा है।

20 Oct 11:10 AM

ब्लड की बीमारियों में सटीक रिपोर्ट देती है सीबीसी जांच

हमारे शरीर के संचालन के लिए रक्त की महत्वपूर्ण भूमिका है। शरीर को रोग व अन्य संक्रमण से दूर रखने के लिए रक्त में मौजूद सेल्स

12 Oct 14:10 PM

अफगानिस्तान से आए तीन बच्चों की जटिल हार्ट सर्जरी कर बचाई जान

शहर के एक निजी अस्पताल ने अफगानिस्तान से आए तीन बच्चों की जटिल हार्ट सर्जरी कर उन्हें नया जीवन दिया है। ये सभी बच्चे 10 से 12 किलोग्राम वजन के थे और सभी जटिल साइनोटिक जन्मजात ह्दय रोग (सीसीएचडी) से पीड़ित थे

09 Oct 13:05 PM