विश्व में मधुमेह से पीड़ित होने वाला हर पांचवा व्यक्ति भारतीय - Dainik Navajyoti
Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 12th of December 2018
Home   >  Health   >   News
स्वास्थ्य

विश्व में मधुमेह से पीड़ित होने वाला हर पांचवा व्यक्ति भारतीय

Tuesday, November 13, 2018 15:35 PM

डॉ. पीपी पाटीदार वरिष्ठ मधुमेह एवं डायबिटीज रोग विशेषज्ञ जीवन रेखा अस्पताल ने बताया की मधुमेह रोगियों की संख्या दुनियाभर के अंदर सबसे ज्यादा भारत में है।

जयपुर। डॉ. पीपी पाटीदार वरिष्ठ मधुमेह एवं डायबिटीज रोग विशेषज्ञ जीवन रेखा अस्पताल ने बताया की मधुमेह रोगियों की संख्या दुनियाभर के अंदर सबसे ज्यादा भारत में है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार विश्व में 442 मिलियन मधुमेह रोगी हैं। भारत में वर्ष 2030 में मधुमेह रोगियों की संख्या आठ करोड़ के आसपास हो जाएगी। भारत में इस बीमारी के जितने रोगी है, वो एक विश्व रिकार्ड है। विश्व में भारत को मधुमेह की राजधानी कहा जाता है।

मधुमेह रोग राष्ट्रीयता, लिंग या आर्थिक स्थिति के आधार पर भेदभाव नहीं करता है। डब्ल्यूएचओ के अनुसार मधुमेह से होने वाली 80 प्रतिशत मृत्यु निम्न एवं मध्यम आय वाले देशों में होती है। गत वर्ष के आंकड़ों के अनुसार भारत में 69.2 करोड़ लोग मधुमेह से पीड़ित हैं। इसमें से 36 करोड़ से ज्यादा लोगों में मधुमेह का पता ही नहीं चलता हैं। ऐसा अनुमान है कि विश्व में मधुमेह से पीड़ित होने वाला हर पांचवा व्यक्ति भारतीय है। आमतौर पर मधुमेह के 90.95 प्रतिशत रोगी टाइप 2 या से पीड़ित होते हैं।

डॉ. पीपी पाटीदार वरिष्ठ मधुमेह एवं डायबिटीज रोग विषेषज्ञ जीवन रेखा अस्पताल जयपुर ने बताया की भरत युवाओं का देश है और डायबिटीज रोग अब युवा शक्ति को ही खाने में लगा हुआ है। वर्तमान समय में इडिंयन कौंसिल आॅफ मेडिकल रिसर्च के सर्वे के मुताबिक 25 वर्ष से कम उम्र के 63.9 प्रतिषत युवा इसकी चपैट में है। जो की देष के लिए अच्छा नहीं है।

इसलिए मनाया जाता है दिवस
विश्व मधुमेह दिवस प्रतिवर्ष 14 नवंबर को सर फ्रेडरिक बैंटिंग के जन्मदिवस पर मनाया जाता है, जिन्होंने अपने सहयोगी के साथ मिलकर इंसुलिन की खोज की थी तथा जिसका पहली बार मनुष्यों के ऊपर उपयोग किया गया था। यह दिवस प्रतिवर्ष सारे विश्व में मधुमेह से प्रभावित बढ़ते रोगियों में जागरूक फैलाने के लिए मनाया जाता है।

दो प्रकार का होता है मधुमेह रोग
एक मधुमेह टाइप १ और दूसरा टाइप २ मधुमेह। टाइप १ में इस रोग को इंसुलिन निर्भर, किशोरवस्था या बचपन में शुरुआत होने वाले मधुमेह के रूप में जाना जाता है। इस रोग का कारण शरीर में इंसुलिन का न बनना है। यह रोग जन्म के बाद एवं बचपन में कभी भी हो सकता है। मधुमेह की इस अवस्था को नियमित इंसुलिन से प्रबंधित किया जा सकता है। इसी प्रकार टाइप २ में इंसुलिन निर्भर, किशोर या बचपन में शुरुआत होने वाले मधुमेह के रूप में जाना जाता है। यह वह स्थिति होती है, जिसमें शरीर की कोशिकाएं इंसुलिन का उपयोग करने में सक्षम नहीं होती हैं। आमतौर पर यह शारीरिक निष्क्रियता के साथ अधिक वजन वाले वयस्कों से जुड़ा है।

मधुमेह रोग के लक्षण
मधुमेह रोग होने पर मुख्य रूप से लगातार पेशाब आना, अत्यधिक प्यास लगना, जोर से भूख लगना, कमजोरी आना, वजन कम होना, आंखों की कमजोरी, पैरों में सूजन व सुन्नता, घाव एवं चोट का धीमी गति से ठीक होना आदि मुख्य लक्षण माने जाते हैं।

मधुमेह से बचने के मुख्य तरीके
ताजा फल व सब्जियों का सेवन करें। आहार में तेल का सेवन कम हो तथा रेशा युक्त खाद्य पदार्थों जैसे कि साबुत अनाजों, दालों एवं अंकुरित दालों को अधिक से अधिक मात्रा में शामिल करें। अधिक मात्रा में आहार का सेवन करने की बजाए दो-तीन घंटे के अंतराल पर थोड़ा-थोड़ा आहार लें। चीनी, अल्कोहल एवं वसायुक्त खाद्य पदार्थों का सेवन कम करें। जीवन शैली में बदलाव व आधे घंटे नियमित व्यायाम जरूरी।
 

Other Latest News of Health -

दुर्लभ बीमारी मेगा यूरेटर में जटिल सर्जरी कर बच्ची को दिया नया जीवन

6 साल की शिखा (बदला नाम) को भूख नहीं लगती थी और उसका पेट भी सामान्य आकार से बड़ा था।

12 Dec 14:55 PM

सर्दियों में बढ़ जाता है हार्ट अटैक का खतरा

हार्ट अटैक के हिसाब से सर्दियों का मौसम काफी गंभीर माना जाता है। आंकडों की माने तो 50 प्रतिशत से अधिक हार्ट अटैक सर्दियों

06 Dec 12:00 PM

देश के स्वास्थ्य और भविष्य पर हुआ मंथन

आईआईएचएमआर यूनिवर्सिटी की ओर से होटल क्लार्क्स आमेर में वार्षिक कार्यक्रम प्रदन्या के 23वें संस्करण का आयोजन हुआ

04 Dec 12:15 PM

फेफड़े के साथ दिल और दिमाग को नुकसान पहुंचाती है COPD

धूम्रपान और प्रदूषण के कारण फैलने वाली खतरनाक बीमारी सी.ओ.पी.डी (क्रॉनिक आॅब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज) फेफड़े ही नहीं, शरीर के दूसरे अंगों को भी बुरी तरह प्रभावित करती है।

22 Nov 11:40 AM

98 साल के इराकी कार्डिक मरीज की सफल ओपन हार्ट सर्जरी

इराक में रहने वाले 98 वर्षीय मोहम्मद कादीम सईद की ओपन हार्ट सर्जरी सफल हो गयी, जिस उम्र में व्यक्ति चलने फिरने लायक नहीं रहता वो मरीज हवाई मार्ग से मेंदाता अस्पताल में आया और उसकी एंजियोग्राफी में उनकी धमनियों में ब्लॉक ब्लड वेसल्स था, जो कि इस उम्र में हो जाता है।

15 Nov 11:10 AM