खराब दांत कर सकते हैं कई गंभीर बीमारियां, ये चीजें हैं घातक - Dainik Navajyoti
Dainik Navajyoti Logo
Friday 16th of November 2018
Home   >  Health   >   News
स्वास्थ्य

खराब दांत कर सकते हैं कई गंभीर बीमारियां, ये चीजें हैं घातक

Tuesday, August 28, 2018 14:00 PM

कांसेप्ट फोटो

जयपुर। दांतों की साफ सफाई पर ध्यान नहीं देने और विभिन्न खाद्य पदार्थों में मिलावट के चलते बड़े पैमाने पर लोगों में दांतों की बीमारियां देखने को मिल रही हैं। दांतों की बीमारियों का संबंध शरीर की अन्य गंभीर बीमारियों से भी होता है। डेंटिस्ट एंड कॉस्मोटोलॉजिस्ट डॉ. ज्योति शर्मा बताती हैं कि डायबिटीज के रोगियों में मसूड़ों में सूजन, दांतों का ढीलापन और मुंह से बदबू आना आदि की समस्या पाई जाती है। इन रोगियों में मुंह की लार में पाए जाने वाले कीटाणु अधिक सक्रिय हो जाते हैं। इसलिए उनके मसूड़ों और जबड़े की हड्डी में संक्रमण हो जाता है। ऐसे में दांत कमजोर हो जाते हैं। मधुमेह के रोगियों को अपना ब्लडशुगर लेबल नियंत्रण में रखना चाहिए।

हाई बीपी से मसूडों में खून
उच्च रक्तचाप के रोगियों में मसूड़ों से खून आना, दुर्गंध और मुख में सूखापन आदि की समस्या पाई जाती है। अत: इन रोगियों को अपने रक्तचाप को नियंत्रण में रखना चाहिए। हृदय रोग में होने वाले दर्द को आमतौर पर कभी-कभी दांत के दर्द से जोड़कर देख लिया जाता है, क्योंकि यह गर्दन, जबड़े, बांह, पीठ (सीने के पीछे की ओर) एवं दांत में महसूस होता है। यदि इन सभी लक्षणों के अतिरिक्त रोगी को सीने में भारीपन की शिकायत हो, तो तुरंत अपने फिजिशियन से संपर्क करना चाहिए।

मसूडों में मवाद भी घातक
मसूड़ों से मवाद आने की शिकायत यदि किसी रोगी को हो और वह समय पर इलाज नहीं करवाता है, तो मुंह में लगने वाले किसी भी घाव या छाले के द्वारा मवाद में पाए जाने वाले कीटाणु रक्तवाहिनियों द्वारा उसके हृदय तक पहुंच जाते हैं एवं बैक्टीरियल इंडोकारडाइटिस रोग हो जाता है। अत: विशेषकर हृदय रोगियों को अपने दांतों एवं मसूड़ों का नियमित चेकअप करवाना चाहिए।

प्रेगनेंसी जिंजीपाइटिस की समस्या
डेंटिस्ट एंड कॉस्मोटोलॉजिस्ट डॉ. ज्योति ने बतया कि गर्भावस्था के दौरान हॉर्मोनल परिवर्तन के कारण मसूड़ों में सूजन एवं खून आने की शिकायत जिसे प्रग्नेंसी जिंजीपाइटिस कहते हैं पाई जाती है। इसलिए गर्भवती महिलाओं को अपने दांतों का चेकअप करवाते रहना चाहिए। इसके अतिरिक्त अर्थराइटिस, अस्थमा आदि में भी दांतों का खास ध्यान रखना चाहिए। दांतों की बीमारियों को कभी भी हल्के में ना लें, क्योंकि इससे अन्य बीमारियां भी प्रभावित होती हैं।

स्वस्थ दांतों के लिए क्या करें
हमेशा नरम बालों वाले ब्रश का उपयोग करें। नियमित रूप से प्रात: व सोने से पूर्व ब्रश करें। ब्रश करने में लगभग दो मिनट का समय दें। बहुत देर तक ब्रश करना दांतों के इनेमल के लिए हानिकारक होता है। अच्छे फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट का प्रयोग करें। ब्रश को प्रत्येक चार महीने में बदल दें। दांतों की दरारों को साफ करने के लिए डेंटल फ्लॉस अथवा मेडिकल स्टोर पर उपलब्ध इंटर डेंटल ब्रश का उपयोग करें। माउथवॉश का नियमित रूप से प्रयोग करें।
 

Other Latest News of Health -

महावीर हॉस्पिटल में 4 साल के बच्चें का किया इविंग सारकोमा लिवर कैंसर का ऑपरेशन

इविंग सारकोमा लिवर का ऑपरेशन भगवान महावीर कैंसर चिकित्सालय एवं अनुसंधान केन्द्र के सर्जन डॉ. शषिकांत सैनी द्वारा किया गया।

19 Sep 16:20 PM

उल्टे अंग एवं हृदय की दुर्लभ बीमारी से पीड़ित बच्चे की बचाई जान

तीन साल का कृष्णा दूसरों की तरह सामान्य दिखाई देता है। उसका शारीरिक और मानसिक विकास भी दूसरे बच्चों की तरह ही है, लेकिन वह हृदय की ट्रांसपोजिशन ऑफ ग्रेट आर्टरी के साथ शरीर के अंगों के उल्टे होने की बेहद दुर्लभ विकार से ग्रसित था।

15 Sep 14:25 PM

अब तीन-चार दिनों में ही पाएं बत्तीसी

एक अवस्था के बाद जब व्यक्ति के सभी दांत चले जाते थे तो उन्हें दांतों का नया सेट लगवाने और उसका उपयोग करने

14 Sep 13:10 PM

डॉक्टर्स ने बताई फिजियोथैरेपी की महत्ता

महात्मा ज्योति राव फुले विश्वविद्यालय में शनिवार को ‘वर्ल्ड फिजियो डे’ के मौके पर हैल्थ अवेयरनेस सेमिनार का आयोजन किया गया, इसमें गोल्ड मेडिलिस्ट पेरा एथलीट शताब्दी अवस्थी, पद्मश्री एवं अर्जुन अवॉर्ड लिम्बाराम ने विशेष रूप से शिरकत की।

09 Sep 11:35 AM

हाथ की नसों में स्टेंट लगाकर खोले ब्लॉकेज, बचाए मरीज के दोनों हाथ

एक युवती के दोनों हाथ निष्क्रिय और निढ़ाल से हो गए थे। खून का प्रवाह हाथों में ठीक से नहीं हो रहा था, साथ ही पल्स भी नहीं आ रही।

30 Aug 13:25 PM