दमा और अस्थमा को लेकर मिथक मटाने के लिए 'बेरोक जिंदगी' अभियान - Dainik Navajyoti
Dainik Navajyoti Logo
Thursday 17th of January 2019
Home   >  Health   >   News
स्वास्थ्य

दमा और अस्थमा को लेकर मिथक मटाने के लिए 'बेरोक जिंदगी' अभियान

Thursday, January 03, 2019 11:20 AM

अस्थमा भवन के निदेशक और अस्थमा रोग विशेषज्ञ डॉ. वीरेन्द्र सिंह ने बताया कि ग्लोबल डिजीज बर्डन 2016 के अनुसार दमा की व्यापकता और दमा के कारण मृत्यु के मामले में चीन के बाद दूसरे स्थान पर भारत का नाम है।

जयपुर। आमजन में दमा और अस्थमा को लेकर मिथक को मिटाने के लिए अपने राष्ट्रव्यापी प्रचार अभियान के तहत देश के विभिन्न हिस्सों में 'बेरोक जिंदगी' यात्रा का आयोजन किया गया। एक दवा कम्पनी के सहयोग से अस्थमा भवन  द्वारा आयोजित महीनेभर के अभियान यात्रा का उद्देश्य भय और संकोच के मुक्त होकर आमजन में इनहलेशन थैरेपी को समझाना और स्वीकार्य बनाना है। अस्थमा भवन के निदेशक और अस्थमा रोग विशेषज्ञ डॉ. वीरेन्द्र सिंह ने बताया कि ग्लोबल डिजीज बर्डन 2016 के अनुसार दमा की व्यापकता और दमा के कारण मृत्यु के मामले में चीन के बाद दूसरे स्थान पर भारत का नाम है।

वहीं राजस्थान एक ऐसा प्रदेश है जहां हर साल अस्थमा से मरने वाले रोगियों की संखाय देश में सबसे अधिक है। उन्होंने बताया कि इसे देखते हुए इस क्षेत्र में बेरोक जिंदगी यात्रा का महत्व और बढ़ जाता है। डॉ. सिंह ने बताया कि दमा शब्द में दो अलग डिजीज शामिल हैं। इनमें एक अस्थमा और दूसरा सीओपीडी। उन्होंने बताया कि मरीजों को अपने मर्ज को उसके नाम से पहंचानना जरूरी है। ताकि उसका जल्द डायग्नोस कर शीघ्र उपचार किया जा सके। उन्होंने बताया कि आज स्थिति यह है कि 50 फीसदी रोगियों को पता ही नहीं होता कि उन्हें अस्थमा है। ऐसे में रोग बढ़ता जाता है और अंत में रोगी की मृत्यु तक हो जाती है।

अस्थमा को छिपाएं नहीं ऊंचाइयों को छुएं
डॉ. वीरेन्द्र सिंह ने बताया कि इनहलेशन थैरेपी दमा रोगों में इसलिए कारगर है कि इससे मरीज डायरेक्ट दवा ग्रहण करता है जबकि गोलियों के माध्यम से उसे 40 प्रतिशत से भी कम दवा मिल पाती है। सांस के माध्यम से औषधियां लेने से वे सीधी फेफड़ों में पहुंचतीं हैं। लेकिन मरीजों को पूरा लाभ पाने के लिए लिखे गए उपचार को अपनाने की भी जरूरत है। हालांकि दमा पूरी तरह ठीक नहीं होता तो भी इस पर पूरा नियंत्रण करना और सामान्य सक्रिय जीवन जीना संभव है। 

Other Latest News of Health -

इंसुलिन इंजेक्शन के सही प्रयोग से मधुमेह पर काबू संभव

मधुमेह भारत में एक महामारी बन चुका है, जिसके 72.9 मिलियन से अधिक रोगी हैं। नवंबर 2018 में लैंसेट डायबीटीज एंड एंडोक्राइनोलॉजी जर्नल में प्रकाशित

17 Jan 13:10 PM

स्वाइन फ्लू के अलग आउटडोर होंगे, जिला और उपखंड मुख्यालयों पर मिलेंगी सुविधाएं

प्रदेश में स्वाइन फ्लू के कहर के चलते अब मेडिकल कॉलेजों के साथ ही चिकित्सा विभाग के अस्पतालों में संदिग्ध मरीजों के लिए अलग से आउटडोर चलेगा।

04 Jan 10:35 AM

बढ़ते स्वाइन फ्लू को लेकर डॉक्टरों ने कहा, जल्द जांच करवाकर बीमारी से बचें

सर्दी बढ़ने के साथ ही शहर व आसपास के गांवों में स्वाइन फ्लू का कहर तेजी से बढ़ रहा है। अब तक इस सीजन में एक दर्जन से अधिक स्वाईन फ्लू रोगियों की मौत बताई जा रही है। वहीं असल आंकड़ों की बात करे तो 29 स्वाइन फ्लू पॉजीटिव मरीजों की मौत हो चुकी है। जबकि 245 स्वाइन फ्लू पॉजीटिव अबतक इस सीजन में सामने आ चुके है।

29 Dec 01:30 AM

मरीज हनुमान चालीसा पढ़ता रहा, डॉक्टर ब्रेन सर्जरी करता रहा

शहर के नारायणा हॉस्पिटल में एक 30 वर्षीय मरीज की पूरे होश में सर्जरी की गई। इस दौरान मरीज हनुमान चालीस पढ़ता रहा और डॉक्टर अपनी सर्जरी करता रहा।

27 Dec 14:40 PM

SMS अस्पताल में कैंसर पीडि़त मरीज को मिलेगी राहत

सवाई मानसिंह अस्पताल में मंगलवार को एक दानदाता ने रेडियोथैरेपी फ्रिक्वेंसी एब्लेशन मशीन दान की है। इस मशीन की कीमत करीब 15 लाख रुपए है।

19 Dec 11:20 AM