दैनिक नवज्योति: Live Hindi News - Latest News in Hindi - Hindi News Paper - हिंदी में समाचार - Dainik Navajyoti Since 1936
Dainik Navajyoti Logo
Friday 16th of November 2018
Home  >  Photo Gallery   >  Photo
दैनिक नवज्योति के बेमिसाल 82 साल
  • दो अक्टूबर 1936 को अजमेर में संस्थापक संपादक और आजादी के योद्धा कप्तान दुर्गाप्रसाद चौधरी ने दैनिक समाचार पत्र, नवज्योति की नींव रखी। इसका उद्देश्य था कि यह आजादी की जंग में अपनी भूमिका निभाने के साथ ही शोषित जन की आवाज बनेगा। तब से लेकर आज तक नवज्योति ने जिस तरह से देश में सामाजिक सरोकारों,जनहित,निस्वार्थ पत्रकारिता तथा लोक कल्याण के लिए कार्य किया है,वह अपने आप में एक बेमिसाल उदाहरण है।
  • पाठकों को प्रात: समाचारों के माध्यम से दुनिया की खबरें देते हुए नवज्योति को दिसंबर 2011 में 75 वर्ष पूर्ण हो गए। इस अवसर पर तत्कालीन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की उपस्थिति में प्लेटिनम जुबली समारोह का आयोजन 22 दिसंबर को किया गया। यहां पर कप्तान साहब को याद करते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने नवज्योति की पत्रकारिता को आज के युग में एक मिसाल बताया।
  • छोटे-छोटे बच्चों ने दो दिसंबर 2016 को उड़ान कार्यक्रम में, जयपुर के होटल आपणों राजस्थान में अपनी कला का प्रदर्शन किया । नन्हे हाथों से किसी ने बापू का चित्र बनाया तो किसी ने सफाई की अलख जगाई।
  • आजादी के दीवाने और जन-जन के नायक कप्तान दुर्गाप्रसाद चौधरी के सम्मान में सरकार ने वर्ष 2012 में 31 जुलाई को उनकी स्मृति को चिर बनाए रखने के लिए एक डाक टिकट निकाला। पूर्व केन्द्रीय मंत्री महादेव खंडेला तथा सचिन पायलट की उपस्थिति में इस डाक टिकट का विमोचन हुआ।
  • कप्तान दुर्गाप्रसाद चौधरी की जन्म शताब्दी के अवसर पर वर्ष 2006 में भाषा एवं पुस्तकालय विभाग ने जन्मशताब्दी समारोह का आयोजन किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया, शिक्षा मंत्री घनश्याम तिवाड़ी के साथ ही ज्ञान प्रकाश पिलानिया तथा प्रमुख शिक्षा सचिव की उपस्थिति में कप्तान साहब पर एक पुस्तक का लोकार्पण किया गया।
  • कप्तान साहब कहा करते थे कि हमें प्रकृति सबकुछ देती है और बदले में हमसे क्या लेती है, कुछ नहीं। उनकी इस बात को ध्यान में रखते हुए तथा तत्कालीन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा प्रेरित हरित क्रांति के अंतर्गत जयपुर के वैशाली नगर स्थित नवज्योति परिसर में कप्तान साहब की 17वीं पुण्यतिथि पर पौधरोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में दीपेन्द्र सिंह शेखावत तथा सांसद महेश जोशी की उपस्थिति में पौधरोपण किया गया।
  • नवज्योति के प्रधान संपादक दीनबंधु चौधरी के मार्गदर्शन में जयपुर में 12 से 18 दिसंबर2016 तक एसएमएस स्टेडियम में बिज्र चैम्पियनशिप का आयोजन किया गया। मीडिया पार्टनर के रूप में जुड़कर नवज्योति ने न सिर्फ ब्रिज चैम्पिनशिप की बेहतरीन कवरेज दी बल्कि इस खेल को वो ऊंचाई दिलाई कि आज हम एशियाड जैसे खेलों में भी पदक जीत रहे हैं।
  • पाठकों को डिजिटल रूप में न्यूज उपलब्ध कराने के लिए वर्ष 2017 में कवि शैलेष लोढ़ा ने गणतंत्र दिवस पर आयोजित कवि सम्मेलन देश राग में दैनिक नवज्योति की बेबसाइट का लोकार्पण किया। आज इस साइट के माध्यम से करोड़ों पाठक लाइव कार्यक्रम, ताजा समाचार तथा ब्रेकिंग न्यूज भी पा रहे हैं।
  • जनवरी को जब पूरा देश गणतंत्र दिवस के जश्न में डूबा होता है, तब नवज्योति हर वर्ष जयपुर के बिड़ला ऑडिटोरियम में देशराग के नाम से कवि सम्मेलन का आयोजन करता है। देशभर के प्रख्यात कवि अपने हास्य तीरों से श्रोताओं को आनंदित करते हैं। गोपालदास नीरज, मधुप पांडेय,अशोक चक्रधर,शैलेष लोढ़ा जैसे सुविख्यात कवि इस कार्यक्रम में कप्तान दुर्गाप्रसाद चौधरी हिंदी सेवा सम्मान से सम्मानित हो चुके हैं। हंसी की फुलझाड़ियों के बीच देशभक्ति के तराने श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर देते हैं।

दो अक्टूबर 1936 को अजमेर में संस्थापक संपादक और आजादी के योद्धा कप्तान दुर्गाप्रसाद चौधरी ने दैनिक समाचार पत्र, नवज्योति की नींव रखी। इसका उद्देश्य था कि यह आजादी की जंग में अपनी भूमिका निभाने के साथ ही शोषित जन की आवाज बनेगा। तब से लेकर आज तक नवज्योति ने जिस तरह से देश में सामाजिक सरोकारों,जनहित,निस्वार्थ पत्रकारिता तथा लोक कल्याण के लिए कार्य किया है,वह अपने आप में एक बेमिसाल उदाहरण है।


पाठकों को प्रात: समाचारों के माध्यम से दुनिया की खबरें देते हुए नवज्योति को दिसंबर 2011 में 75 वर्ष पूर्ण हो गए। इस अवसर पर तत्कालीन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की उपस्थिति में प्लेटिनम जुबली समारोह का आयोजन 22 दिसंबर को किया गया। यहां पर कप्तान साहब को याद करते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने नवज्योति की पत्रकारिता को आज के युग में एक मिसाल बताया।


छोटे-छोटे बच्चों ने दो दिसंबर 2016 को उड़ान कार्यक्रम में, जयपुर के होटल आपणों राजस्थान में अपनी कला का प्रदर्शन किया । नन्हे हाथों से किसी ने बापू का चित्र बनाया तो किसी ने सफाई की अलख जगाई।


आजादी के दीवाने और जन-जन के नायक कप्तान दुर्गाप्रसाद चौधरी के सम्मान में सरकार ने वर्ष 2012 में 31 जुलाई को उनकी स्मृति को चिर बनाए रखने के लिए एक डाक टिकट निकाला। पूर्व केन्द्रीय मंत्री महादेव खंडेला तथा सचिन पायलट की उपस्थिति में इस डाक टिकट का विमोचन हुआ।


कप्तान दुर्गाप्रसाद चौधरी की जन्म शताब्दी के अवसर पर वर्ष 2006 में भाषा एवं पुस्तकालय विभाग ने जन्मशताब्दी समारोह का आयोजन किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया, शिक्षा मंत्री घनश्याम तिवाड़ी के साथ ही ज्ञान प्रकाश पिलानिया तथा प्रमुख शिक्षा सचिव की उपस्थिति में कप्तान साहब पर एक पुस्तक का लोकार्पण किया गया।


कप्तान साहब कहा करते थे कि हमें प्रकृति सबकुछ देती है और बदले में हमसे क्या लेती है, कुछ नहीं। उनकी इस बात को ध्यान में रखते हुए तथा तत्कालीन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा प्रेरित हरित क्रांति के अंतर्गत जयपुर के वैशाली नगर स्थित नवज्योति परिसर में कप्तान साहब की 17वीं पुण्यतिथि पर पौधरोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में दीपेन्द्र सिंह शेखावत तथा सांसद महेश जोशी की उपस्थिति में पौधरोपण किया गया।


नवज्योति के प्रधान संपादक दीनबंधु चौधरी के मार्गदर्शन में जयपुर में 12 से 18 दिसंबर2016 तक एसएमएस स्टेडियम में बिज्र चैम्पियनशिप का आयोजन किया गया। मीडिया पार्टनर के रूप में जुड़कर नवज्योति ने न सिर्फ ब्रिज चैम्पिनशिप की बेहतरीन कवरेज दी बल्कि इस खेल को वो ऊंचाई दिलाई कि आज हम एशियाड जैसे खेलों में भी पदक जीत रहे हैं।


पाठकों को डिजिटल रूप में न्यूज उपलब्ध कराने के लिए वर्ष 2017 में कवि शैलेष लोढ़ा ने गणतंत्र दिवस पर आयोजित कवि सम्मेलन देश राग में दैनिक नवज्योति की बेबसाइट का लोकार्पण किया। आज इस साइट के माध्यम से करोड़ों पाठक लाइव कार्यक्रम, ताजा समाचार तथा ब्रेकिंग न्यूज भी पा रहे हैं।


जनवरी को जब पूरा देश गणतंत्र दिवस के जश्न में डूबा होता है, तब नवज्योति हर वर्ष जयपुर के बिड़ला ऑडिटोरियम में देशराग के नाम से कवि सम्मेलन का आयोजन करता है। देशभर के प्रख्यात कवि अपने हास्य तीरों से श्रोताओं को आनंदित करते हैं। गोपालदास नीरज, मधुप पांडेय,अशोक चक्रधर,शैलेष लोढ़ा जैसे सुविख्यात कवि इस कार्यक्रम में कप्तान दुर्गाप्रसाद चौधरी हिंदी सेवा सम्मान से सम्मानित हो चुके हैं। हंसी की फुलझाड़ियों के बीच देशभक्ति के तराने श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर देते हैं।


अन्य फोटो गैलरी