भाजपा की हल चाल पर अशोक गहलोत ने रखी नजर, कर्नाटक में ढह गया 'केसरिया किला' - Dainik Navajyoti
Dainik Navajyoti Logo
Saturday 22nd of September 2018
Home   >  Election 2018   >   News
चुनाव-2018

भाजपा की हल चाल पर अशोक गहलोत ने रखी नजर, कर्नाटक में ढह गया 'केसरिया किला'

Saturday, May 19, 2018 17:45 PM

कर्नाटक विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान राहुल गांधी के साथ रोड शो करते हुए अशोक गहलोत (फाइल फोटो)

बेंगलुरु। कर्नाटक में सियासी तौर पर भाजपा को पटखनी देकर कांग्रेस-जेडीएस खेमे में खुशी की लहर है। 15 मई को कर्नाटक विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने, फिर कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की घोषणा और इसके बाद इस गठबंधन के नेता एचडी कुमारस्वीमा द्वारा राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने के लिए राज्यपाल को विधायकों के समर्थन की चिट्ठी सौंपना, ये सब सियासी घटनाक्रम तेजी से चले, इन सबके पीछे राहुल गांधी के 'चाणक्य' अशोक गहलोत की कुशल रणनीति बताई जा रही है।


नतीजों के दिन से ही कर्नाटक के सियासी घटनाक्रम बदलते गए और गहलोत भी अपनी रणनीति बदलते चले गए। 16 मई को कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला ने जब राज्य के सबसे बड़े भाजपा को सरकार बनाने का न्योता दिया तो कांग्रेस ने 17 मई को येदियुरप्पा के होने वाले शपथग्रहण समारोह पर रोक लगाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की, जिसे खारिज कर दिया गया। येदियुरप्पा के सीएम पद की शपथ लेने के बाद राज्यपाल ने उन्हें 15 दिन में बहुमत साबित करने का मौका दिया, जिसे कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दे डाली। सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करते हुए 19 मई की शाम को 4 बजे शक्ति परीक्षण करने के आदेश दे दिए, इसके बाद 19 मई को  कर्नाटक की राजनीति में बड़ा बदलाव आया और येदियुरप्पा ने विधानसभा में भाषण देते हुए सीएम पद से इस्तीफा देने का ऐलान कर दिया।

गहलोत ने कांग्रेस के 78 विधायकों को एकजुट रखने, बेंगलुरू से लेकर दिल्ली तक रणनीति तैयार कर हर वो कोशिश की, जिससे कांग्रेस मजबूत हो सके। गहलोत के साथ गुलाम नबी आजाद, मल्लिकार्जन खड़गे सहित कई नेता भी सहयोगी के रूप में रहे। कर्नाटक में कांग्रेस के विधायकों को एकजुट रखने की बात हो, कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन का समय पर ऐलान करना और सुप्रीम कोर्ट में समय पर याचिका दाखिल करने की बात हो, इन सब कामों में बेशक डीके शिवकुमार, कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी, रणदीप सुरजेवाला, कपिल सिब्बल, गुलाम नबी आजाद से लेकर तमाम नेताओं का योगदान है, लेकिन किस सियासी चाल को कब चलना है, इसका 'निर्देशन' अशोक गहलोत ने किया, जिसका नतीजा यह निकला कि कर्नाटक में भाजपा सरकार का 'किला' मात्र ढाई दिन में ढह गया।

गुजरात विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को मजबूती देने के बाद यह दूसरा बड़ा मौका है जब गहलोत ने खुद को एक सुलझे हुए सियासी रणनीतिकार और राहुल गांधी के 'चाणक्य' के तौर पर मजबूती के साथ फिर साबित कर दिखाया। यह बात राहुल गांधी, सोनिया गांधी से लेकर पार्टी के तमाम वरिष्ठ नेता व देशभर के कार्यकर्ता भी जानते हैं। गुजरात और कर्नाटक विधानसभा चुनाव में राहुल की चुनावी रैलियों के प्रबंधन का काम भी गहलोत की कुशल निगरानी में ही हुआ, इससे कांग्रेस को नई ऊर्चा भी मिली है। 

बता दें कि अशोक गहलोत राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री हैं और वर्तमान में कांग्रेस के संगठन महासचिव हैं, कांग्रेस अध्यक्ष के बाद पार्टी में यह दूसरे नंबर का पद है, जो बहुत ही महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है।

Other Latest News of Election-2018 -

कर्नाटक में ढाई दिन रही भाजपा की सरकार, येदियुरप्पा ने दिया इस्तीफा

राज्य को ईमानदार नेताओं की जरूरत है, जब तक जिंदा हूं किसानों के लिए काम करूंगा, पांच साल में बहुत उतार-चढ़ाव देखे, जिंदगी भर जंग लड़ता रहूंगा

19 May 16:10 PM

कांग्रेस नेता वीरप्पा मोइली का आरोप, भाजपा ने हमारे विधायकों को बनाया बंधक

दिल्ली में प्रेस कांफ्रेंस कर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि बहुमत परीक्षण के पारदर्शी होने से हम संतुष्ट हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस नहीं चाहती थी कि केजी बोपैया प्रोटेम स्पीकर हों

19 May 12:40 PM

कर्नाटक: शक्ति परीक्षण का होगा LIVE प्रसारण, कांग्रेस के 2 विधायक लापता

कर्नाटक विधानसभा में बी एस येद्दियुरप्पा की भाजपा सरकार के शक्ति परीक्षण पर सभी राजनीतिक दलों की नजरें हैं और इसके लिए पूरी तैयारियां की जा चुकी हैं

19 May 11:45 AM

भाजपा ने मांगा 7 दिन का समय, SC ने कहा, शनिवार शाम को 4 बजे होगा शक्ति परीक्षण

सुप्रीम कोर्ट ने येदियुरप्पा से 15 और 16 मई की राज्यपाल को सौंपी गई दो चिट्ठी मांगी, जो उनकी तरफ से जमा करा दी गई हैं

18 May 10:35 AM

Video: कर्नाटक में अशोक गहलोत ने संभाला मोर्चा, बेंगलुरु से दिल्ली तक बनाई रणनीति

मुख्यमंत्री की पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाने के विरोध में कांग्रेस और जनता दल(सेक्युलर) के नव निर्वाचित विधायकों ने गुरुवार को विधानसभा परिसर में गांधीजी की मूर्ति के पास प्रदर्शन किया।

17 May 15:35 PM