आदर्श शिक्षक और बहुमुखी प्रतिभा के धनी डॉ राधाकृष्णन - Dainik Navajyoti
Dainik Navajyoti Logo
Friday 16th of November 2018
Home   >  Education   >   News
शिक्षा जगत

आदर्श शिक्षक और बहुमुखी प्रतिभा के धनी डॉ राधाकृष्णन

Wednesday, September 05, 2018 13:15 PM

डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन

जयपुर। अमेरिका में भारतीय दर्शन पर उनके व्याख्यान बहुत सराहे गए। उन्हीं से प्रभावित होकर सन 1929-30 में उन्हें मेनचेस्टर कॉलेज में प्राचार्य का पद ग्रहण करने को बुलाया गया। मेनचेस्टर और विश्वविद्यालय में धर्मों के तुलनात्मक अध्ययन पर दिए गए उनके भाषणों को सुनकर प्रसिद्ध दार्शनिक बर्टरेंट रसेल ने कहा था, मैंने अपने जीवन में पहले कभी इतने अच्छे भाषण नहीं सुने।

सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती प्रतिवर्ष 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाई जाती है। इन दिनों जब शिक्षा की गुणात्मकता का ह्रास होता जा रहा है और गुरु-शिष्य संबंधों की पवित्रता को ग्रहण लगता जा रहा है, उनका पुण्य स्मरण फिर एक नई चेतना पैदा कर सकता है।

शिक्षक दिवस के रूप में
सन 1962 में जब वे राष्ट्रपति बने थे, तब कुछ शिष्य और प्रशंसक उनके पास गए थे। उन्होंने उनसे निवेदन किया था कि वे उनके जन्मदिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाना चाहते हैं। उन्होंने कहा मेरे जन्मदिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाने से निश्चय ही मैं अपने को गौरवान्वित अनुभव करूंगा। तब से 5 सितंबर सारे देश में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जा रहा है।
अपनी शैली रोचक बनाना 
डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन अपनी बुद्धिमतापूर्ण व्याख्याओं, आनंददायी अभिव्यक्ति और हंसाने, गुदगुदाने वाली कहानियों से अपने छात्रों को मंत्रमुग्ध कर दिया करते थे। वे छात्रों को प्रेरित करते थे कि वे उच्च नैतिक मूल्यों को अपने आचरण में उतारें। वे जिस विषय को पढ़ाते थे, पढ़ाने के पहले स्वयं उसका अच्छा अध्ययन करते थे। दर्शन जैसे गंभीर विषय को भी वे अपनी शैली की नवीनता से सरल और रोचक बना देते थे।

अमूल्य योगदान दिया
शिक्षा के क्षेत्र में डॉ राधाकृष्णन ने जो अमूल्य योगदान दिया वह निश्चय ही अविस्मरणीय रहेगा। वे बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। यद्यपि वे एक जाने-माने विद्वान, शिक्षक, वक्ता, प्रशासक, राजनयिक, देशभक्त और शिक्षा शास्त्री थे तथापि अपने जीवन के उत्तरार्द्ध में अनेक उच्च पदों पर काम करते हुए भी शिक्षा के क्षेत्र में सतत योगदान करते रहे। उनकी मान्यता थी कि यदि सही तरीके से शिक्षा दी जाए तो समाज की अनेक बुराइयों को मिटाया जा सकता है।

शिक्षा का लक्ष्य
डॉ राधाकृष्णन कहा करते थे कि मात्र जानकारियां देना शिक्षा नहीं है। यद्यपि जानकारी का अपना महत्व है और आधुनिक युग में तकनीक की जानकारी महत्वपूर्ण भी है तथापि व्यक्ति के बौद्धिक झुकाव और उसकी लोकतांत्रिक भावना का भी बड़ा महत्व है। ये बातें व्यक्ति को एक उत्तरदायी नागरिक बनाती हैं। शिक्षा का लक्ष्य है ज्ञान के प्रति समर्पण की भावना और निरंतर सीखते रहने की प्रवृत्ति। वह एक ऐसी प्रक्रिया है जो व्यक्ति को ज्ञान और कौशल दोनों प्रदान करती है तथा इनका जीवन में उपयोग करने का मार्ग प्रशस्त करती है। करुणा, प्रेम और श्रेष्ठ परंपराओं का विकास भी शिक्षा के उद्देश्य हैं।

आदर्श शिक्षक के गुण
वे कहते थे कि जब तक शिक्षक शिक्षा के प्रति समर्पित और प्रतिबद्ध नहीं होता और शिक्षा को एक मिशन नहीं मानता तब तक अच्छी शिक्षा की कल्पना नहीं की जा सकती। उन्होंने अनेक वर्षों तक अध्यापन किया। एक आदर्श शिक्षक के सभी गुण उनमें विद्यमान थे। उनका कहना था कि शिक्षक उन्हीं लोगों को बनाया जाना चाहिए जो सबसे अधिक बुद्धिमान हों। शिक्षक को मात्र अच्छी तरह अध्यापन करके ही संतुष्ट नहीं हो जाना चाहिए। उसे अपने छात्रों का स्रेह और आदर अर्जित करना चाहिए। सम्मान शिक्षक होने भर से नहीं मिलता, उसे अर्जित करना पड़ता है।

विश्वविद्यालय है तीर्थस्थान
वे कहते थे कि विश्वविद्यालय गंगा-यमुना के संगम की तरह शिक्षकों और छात्रों के पवित्र संगम हैं। बड़े-बड़े भवन और साधन सामग्री उतने महत्वपूर्ण नहीं होते, जितने महान शिक्षक। विश्वविद्यालय जानकारी बेचने की दुकान नहीं हैं, वे ऐसे तीर्थस्थल हैं जिनमें स्रान करने से व्यक्ति को बुद्धि, इच्छा और भावना का परिष्कार और आचरण का संस्कार होता है। विश्वविद्यालय बौद्धिक जीवन के देवालय हैं, उनकी आत्मा है ज्ञान की शोध। वे संस्कृति के तीर्थ और स्वतंत्रता के दुर्ग हैं। उनके अनुसार उच्च शिक्षा का काम है साहित्य, कला और व्यापार-व्यवसाय को कुशल नेतृत्व उपलब्ध कराना।

Other Latest News of Education -

Video: अलंकार कॉलेज की फ्रेशर्स पार्टी में छात्राओं ने जमकर किया डांस

सिरसी रोड स्थित अलंकार पीजी महिला महाविद्यालय में शुक्रवार को फ्रेशर्स पार्टी का आयोजन किया गया, जिसमें छात्राओं ने रंगारंग डांस की प्रस्तुतियां देकर सभी को झूमने पर मजबूर कर दिया।

14 Sep 15:05 PM

पढ़े लिखे छात्र भी सही तरीके से नहीं दे पाए वोट

राजस्थान विश्वविद्यालय के छात्रसंघ चुनावों में पढ़े लिखे विद्यार्थी भी मतदान करने में फेल हो गए। यहीं नहीं शोध कर रहे विद्यार्थी

14 Sep 13:30 PM

द्वितीय श्रेणी शिक्षक भर्ती परीक्षा: ध्यान रखने योग्य प्रमुख तथ्य

इस संबंध में राजस्थान में मीठे पानी की झीलों एवं स्रोतों का तो महत्व बढ़ ही जाएगा साथ ही खारे पानी की झीलों के महत्व में भी वृद्धि हो जाएगी। चूंकि जीवन जीने से लेकर औद्योगिक विकास तथा विकास के अन्य क्षेत्रों में जल की विशेष महत्ता है।

09 Sep 10:45 AM

तकनीकी सहायक का परिणाम और नियुक्ति प्रक्रिया पर रोक

राजस्थान हाईकोर्ट ने जेवीवीएनएल की तकनीकी सहायक भर्ती में महिलाओं को तीस फीसदी आरक्षण का लाभ नहीं देने पर भर्ती का परिणाम और नियुक्ति प्रक्रिया पर अंतरिम रोक लगा दी है।

07 Sep 09:00 AM

RAS मुख्य परीक्षा सहित 7 परीक्षाओं की तारीख घोषित, देखिए पूरा कार्यक्रम

राजस्थान लोक सेवा आयोग ने बुधवार को एक साथ सात परीक्षाओं की तिथि घोषित कर दी। इनका विस्तृत कार्यक्रम जल्द ही जारी कर दिया जाएगा

05 Sep 23:05 PM