आपका मोबाइल नंबर ही बनेगा इंश्योरेंस नंबर! - Dainik Navajyoti
Dainik Navajyoti Logo
Monday 21st of January 2019
Home   >  Business   >   News
बिज़नेस

आपका मोबाइल नंबर ही बनेगा इंश्योरेंस नंबर!

Wednesday, January 09, 2019 11:30 AM

कांसेप्ट फोटो

नई दिल्ली। अगर आपने अपनी इंश्योरेंस कंपनी को अपना मोबाइल नंबर रजिस्टर कराया है तो इंश्योरेंस कंपनी आपके पॉलिसी डॉक्यूमेंट से लेकर दावे से जुड़ी हर जानकारी आपको मोबाइल पर व्हाट्सअप या कॉल के जरिए दे सकती है। हजारों पॉलिसी होल्डर इसका फायदा भी उठा रहे हैं।

ऐसे में सभी बीमा कंपनियों ने बीमा विनियामक विकास प्राधिकरण के समक्ष यह मांग उठाई है कि सभी कंपनियों के लिए मोबाइल नंबर को शामिल करने को अनिवार्य किया जाए। रिलायंस जनरल के सीईओ राकेश जैन के मुताबिक जनरल इंश्योरेंस में पॉलिसी होल्डर का मोबाइल नंबर जरूरी किया जाता है तो बीमा कंपनी के साथ पॉलिसी होल्डर को काफी फायदा होगा। उन्होंने कहा कि मोबाइल नंबर के जरिए पॉलिसी होल्डर कंपनी से जुड़ पाएगा और फिर पॉलिसी दस्तावेज से लेकर क्लेम तक की सभी प्रकिया की जानकारी मोबाइल नंबर से पॉलिसी धारक को दी जाएगी। व्हाट्सअप पर इंश्योरेंस कंपनी सभी डॉक्यूमेंट भेज सकती है।
 

Other Latest News of Business -

इलेक्ट्रिक वाहनों पर रोड टैक्स नहीं लगना चाहिए : कांत

नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत ने कहा कि आयोग ने राज्यों से इलेक्ट्रिक वाहनों को रोड टैक्स से छूट

11 Jan 09:50 AM

मारुति सुजुकी ने चुनिंदा मॉडल के दाम बढ़ाए

देश की अग्रणी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी ने अपने चुनिंदा मॉडल की कीमतें बढ़ाने की घोषणा की है। कंपनी ने यह जानकारी

11 Jan 09:45 AM

GST छूट सीमा दोगुनी करना सही दिशा में उठाया गया कदम: संदीप सोमानी

उद्योग संगठनों ने जीएसटी परिषद द्वारा जीएसटी छूट की सीमा दोगुनी करने और कंपोजिशन स्कीम की सीमा बढ़ाकर

11 Jan 09:25 AM

GST छूट की सीमा बढ़ाई, कंपोजिशन स्कीम के लिए भरना होगा वार्षिक रिटर्न

जीएसटी से छूट की सीमा को 20 लाख रुपये से बढ़ाकर 40 लाख रुपये करते हुये जीएसटी परिषद ने कंपोजिशन स्कीम की 1.5 करोड़ रुपये की सीमा को 1 अप्रैल 2019 से लागू करने का निर्णय लिया है।

10 Jan 17:15 PM

तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था बना रहेगा भारत : रिपोर्ट

विश्व बैंक ने वर्ष 2021 तक वैश्विक अर्थव्यवस्था में गिरावट का पूर्वानुमान जारी किया है, हालांकि उसने कहा है कि भारत की विकास दर बढ़कर 7.5 प्रतिशत पर पहुंच जाएगी और वह दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ने वाली बड़ी अर्थव्यवस्था बना रहेगा।

10 Jan 10:50 AM