घरेलू उद्योगों की कीमत पर कोई भी समझौता नहीं किया जाएगा: सुरेश प्रभु - Dainik Navajyoti
Dainik Navajyoti Logo
Thursday 17th of January 2019
Home   >  Business   >   News
बिज़नेस

घरेलू उद्योगों की कीमत पर कोई भी समझौता नहीं किया जाएगा: सुरेश प्रभु

Saturday, January 12, 2019 10:40 AM

केन्द्रीय वाणिज्य, उद्योग एवं नागर विमानन मंत्री सुरेश प्रभु (फाइल फोटो)

नई दिल्ली। केन्द्रीय वाणिज्य, उद्योग एवं नागर विमानन मंत्री सुरेश प्रभु ने देश के पेपर उद्योग को मुक्त व्यापार संधियों (एफटीए) के कारण प्रभावित हो रहे हित पर ध्यान देने का आश्वासन देते हुये शुक्रवार को यहां कहा कि घरेलू उद्योगों की कीमत पर कोई भी समझौता नहीं किया जाएगा। प्रभु ने यहां इंडियन पेपर मैन्यूफैक्चरर्स एसोसिएशन (आईपीएमए) के 19वें वार्षिक सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि पेपर इंडस्ट्री देश के महत्वपूर्ण उद्योगों में से है।

इस क्षेत्र में घरेलू विनिर्माण बढ़ाने के लिए सरकार हरसंभव प्रयास कर रही है। अन्य देशों के साथ व्यापार समझौतों में भी यह ध्यान रखा जाएगा कि घरेलू उद्योगों के हित प्रभावित नहीं हो।  उन्होंने कहा कि सरकार घरेलू स्तर पर कागज विनिर्माण सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है। किसी अन्य देश से मुक्त व्यापार समझौता (एफटीए) करने से पहले इस उद्योग से जुड़े लोगों से विमर्श किया जाएगा। घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा देना उनकी व्यापार नीति की प्राथमिकताओं में है। उन्होंने पेपर उद्योग की चुनौतियों का उल्लेख करते हुये कहा कि सरकार खुद कागज उद्योग के बड़े ग्राहकों में से एक है। इसलिए वह इस उद्योग की मुश्किलों को समझते हैं।

आईपीएमए के अध्यक्ष सौरभ बांगड़ ने कहा कि पेपर उपभोग के मामले में भारत सबसे तेजी से बढ़ता हुआ बाजार है। पिछले 10 साल में यहां कागज की खपत करीब दोगुनी हो गई है। वर्ष 2007-08 में कागज की खपत 90 लाख टन थी, जो 2017-18 में बढ़कर 1.7 करोड़ टन पपर पहुंच गई। वर्ष 2019-20 तक खपत दो करोड़ टन होने का अनुमान है। आईपीएमए के नए निर्वाचित अध्यक्ष ए एस मेहता ने कहा कि कागज निर्माण में पेड़ों का इस्तेमाल होने के भ्रम को तोड़ा गया है और यहां कागज उद्योग वन आधारित नहीं, बल्कि कृषि आधारित है।

किसानों द्वारा खेतों में उगाए गए विशेष पेड़ों से कागज उद्योग के लिए कच्चा माल मिलता है। उद्योग की जरूरत के लिए करीब नौ लाख हेक्टेयर का वानिकीकरण किया गया है। उद्योग की जरूरत का 90 फीसदी कच्चा माल उद्योग प्रायोजित वानिकीकरण से मिलता है। इससे करीब पांच लाख किसानों को रोजगार मिला है। 

 

Other Latest News of Business -

वैल्यू प्लस से शॉपिंग करो और जीतो योजना का लक्की ड्रॉ

वैल्यू प्लस ने अपने ग्राहकों को शॉपिंग एक्सपीरियंस को आनंदमयी बनाने के लिए अपने भारत वर्ष में मौजूद 95 स्टोर्स पर एक नई स्कीम खरीदो

17 Jan 10:25 AM

ईरान से तेल आपूर्ति रुक जाए तो भी हम तैयार: संजीव

इंडियन आॅयल के अध्यक्ष संजीव सिंह ने बुधवार को कहा कि ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंध के कारण वहां से तेल आपूर्ति रुकने

17 Jan 10:20 AM

चिरेका कर्मचारियों को आॅन द स्पॉट आवास आवंटन

चित्तरंजन (चिरेका) के तकनीकी प्रशिक्षण केंद्र प्रशिक्षण भवन में आॅन द स्पॉट रेलवे आवास कार्यक्रम में हिस्सा लेने आए चिरेका कर्मचारियों को आवास आवंटन किया गया।

16 Jan 13:45 PM

विद्युत क्षेत्र की मुश्किलें बढ़ीं, वितरण कंपनियों पर बकाया 25 फीसदी बढ़ा

बिजली क्षेत्र में दबाव के बीच विद्युत उत्पादन करने वाली कंपनियों की मुश्किलें और बढ़ गई हैं। इस साल अक्टूबर में बिजली वितरण कंपनियों पर उनका बकाया 24.7 प्रतिशत बढ़कर 39,498 करोड़ रुपया हो गया।

14 Jan 11:25 AM

नवंबर में औद्योगिक उत्पादन में कमी

देश की आर्थिक गतिविधियों का पैमाना कहे जाने वाला औद्योगिक उत्पादन सूचकांक में वृद्धि नवंबर 2018 में 17 महीने के निचले स्तर

12 Jan 10:55 AM