वजन कम करना जरूरी है, मुमकिन भी - Dainik Navajyoti
Dainik Navajyoti Logo
Friday 16th of November 2018
Home  >  Blog   >  Blog Post
ब्लॉगर मंच

वजन कम करना जरूरी है, मुमकिन भी

$author    Rashi chaudhary
कॉन्सेप्ट फोटो

कॉलेज का जीवन आमोद प्रमोद और खेलकूद से भरा होता है। लेकिन तभी तक, जब तक कि सहसा बढ़ गए मोटापे के कारण आपके कपड़े तंग न हो जाएं। अमेरिका में बहते पानी की तरह फास्ट फूड की बिक्री धड़ल्ले से होती है। अचरज नहीं कि फ्रेशमैन 15 एक वास्तविक मंजर हो। फ्रेशमैन 15 का मतलब है, प्रथम सेमेस्टर में अधिकतर छात्रों के वजन में 15 पौंड का इजाफा। मैंने सोचा था कि मैं इस हालत का शिकार नहीं बनूंगी। तब मैंने महसूस नहीं किया था कि मैं गलत साबित हो जाऊंगी। हालांकि कक्षाओं में उपस्थिति, सामाजिक जीवन और स्वास्थ्य का एक साथ संतुलन और प्रबंधन थोड़ा कठिन हो सकता है, लेकिन यह असम्भव नहीं है। बहुत सारे उपाय हैं, जिनके द्वारा फ्रेशमैन 15 की समस्या से बचा जा सकता है और शायद अपना वजन भी कम किया जा सकता है।

हमारे उपापचय (मेटाबोलिजम) को बाधित करने और कामकाज पर नकारात्मक असर डालने वाली सबसे बुरी चीज है नींद की कमी। मैं जानती हूं कि हर रात आठ घंटे की नींद लेने में काफी  मुश्किल आती है, लेकिन यह मुश्किल हर हाल में बर्दाश्त की जानी चाहिए। अगर आठ घंटे सम्भव नहीं हों, तो सप्ताह में पांच दिन कम से कम सात घंटे की नींद तो आपकी न्यूनतम आवश्यकता है ही। इससे कक्षा में बेहतर एकाग्रता प्राप्त होती है और सुबह सवेरे की थकान और चिड़चिड़ेपन से भी निजात मिलती है। कई छात्र सबेरे नाश्ता नहीं करते। इनमें मैं भी शामिल हूं। हालांकि हम ने सुन रखा है कि सबेरे का नाश्ता दिन का सबसे महत्वपूर्ण भोजन है, लेकिन हम इस पर भी ध्यान नहीं देते। उल्लेखनीय है कि प्रात:काल प्राप्त की जाने वाली कैलोरी जल्द खर्च हो जाती है। साथ ही यह उपापचय को भी बढ़ाती है।

सवेरे नाश्ता करने से पेट देर तक भरा रहता है। इससे दिन में कई बार हल्का-फुल्का, लेकिन सेहत के प्रतिकूल भोजन करने से भी हम बच जाते हैं।  क्या होस्टल में आपका कमरा नाश्ते के स्टोर से केवल दो फीट दूर है? मेरा तो इतना ही दूर है और यह एक अभिशाप ही है। स्टोर के वहां होने के कारण मैं रोज वहां जाती थी और वहां रखी अस्वास्थ्यकर, लेकिन स्वादिष्ट चीजों को देख कर लालच में पड़ जाती थी। इससे बचने का एक मात्र उपाय यह है कि ललचाने वाली चीजों के रास्ते पर कदम ही न रखा जाए और सीधे फलों और ताजे भोजन के स्टोर पर पहुंचा जाए। जहां तक हो सके डिब्बाबंद भोजन से बचें और फलों एवं स्वास्थ्यकर नाश्ते पर जोर दें। आप अपना भोजन स्वयं बनाने का प्रयास कर सकते हैं। यदि आपके आवास में यह सम्भव है।

यदि आपके पास समय है तो जिम जाया करें। लेकिन यदि वह दूर है और आप भी मेरी तरह वहां जाने का अतिरिक्त प्रयास नहीं करना चाहते, तो टहलें। जहां तक हो सके, टैक्सी पर बैठनेसे बचें। हर जगह पैदल ही जाने का प्रयास करें। यह शहर को देखने और उसकी पड़ताल करने और लोगों से मिलने जुलने का भी उपाय है और छरहरे बने रहने का भी। ये सारे फायदे हमें एक साथ ही मिलते हैं। कुल मिला कर कॉलेज तनावपूर्ण होते हैं। सत्र के बीच की परीक्षाएं, डेडलाइन और लिखित सामग्री प्रस्तुत करने की आपाधापी में वजन ठीक रखने की चिंता कौन कर पाए, लेकिन स्वास्थ्यवर्द्धक भोजन करना स्वस्थ जीवनशैली की आवश्यकता केवल शारीरिक वजन ठीक रखने तक ही सीमित नहीं हैं।

दिन ब दिन की तंदुरुस्ती और जीवन के प्रति सकारात्मक रुख रखने केलिए भी यह जरूरी है। हम हर चीज पर नियंत्रण नहीं रख सकते, लेकिन एक स्वस्थ जीवनशैली तो हम अपना ही सकते हैं। इसलिए इस पर नियंत्रण रखने से अतीव प्रसन्नता मिल सकती है। इससे जीवन में विफलताएं भी काफी कम हो  सकती हैं।

राशि चौधरी
(लेखिका बोस्टन यूनिवर्सिटी में अध्ययनरत)

 

Other Latest Blogs -

यूनिवर्सिटी डायरी: विदेश में पढ़ाई, खर्च में बरतें किफायत

देशों में अध्ययन करना घर के आराम भरे माहौल से बिल्कुल अलहदा हो सकता है। कभी तो यह एक खौफनाक दुनिया सा लग सकता है और कभी चुनौतीपूर्ण।

Rashi chaudhary

मेरे अटल

अटल जी अब नहीं रहे। मन नहीं मानता। अटल जी, मेरी आंखों के सामने हैं, स्थिर हैं। जो हाथ मेरी पीठ पर धौल जमाते थे, जो स्नेह से, मुस्कराते हुए मुझे अंकवार में भर लेते थे, वे स्थिर हैं।

नरेन्द्र मोदी, प्रधानमंत्री

आखिर कब तक बेटियों पर जुल्म होते रहेंगे?

एक और तो हम हमारे देश को विकास की ओर ले जा रहे है और दूसरी ओर आए दिन हमारे देश में बेटियों के साथ बर्बरता के मामले सामने आ रहे है।

jahid hussain

देश की प्रगति के लिए पुरुष बनें महिलाओं के सहभागी

मैं महिला दिवस मे महिला सशक्तिकरण हेतु संघर्षरत जनों को अपने मंन्तव्य से अवगत कराना चाहती हूं।

Khushbu Sharma

दिल से करें महिलाओं का सम्मान

आज अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस है... उन महिलाओं का दिवस जिन्हें इस दिन के मायने तक नहीं मालूम... आज सुबह की ही बात है... बस यात्रा के दौरान एक महिलायात्री महिलादिवस से पूरी तरह से अनजान हाथ में पैसे लिए कंडक्टर से टिकिट लेने पहुंच गई

Neha Nirala